आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को अस्पताल से मिली छुट्टी, पांच दिन होम क्वारंटाइन में रहेंगे

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को अस्पताल से मिली छुट्टी, पांच दिन होम क्वारंटाइन में रहेंगे। फाइल फोटो

नागपुर के किंग्सवे अस्पताल के मुताबिक डॉक्टरों की टीम ने अगले पांच दिनों के लिए होम क्वारंटाइन में बने रहने की सलाह के साथ आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को छुट्टी देने का फैसला किया है उन्हें नौ अप्रैल को कोरोना संक्रमित पाया गया था।

मुंबई, एएनआइ। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत को शुक्रवार को नागपुर के अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। आरएसएस प्रमुख करीब एक सप्ताह पहले कोरोना संक्रमित पाए गए थे। नागपुर के किंग्सवे अस्पताल के मुताबिक, डॉक्टरों की टीम ने अगले पांच दिनों के लिए होम क्वारंटाइन में बने रहने की सलाह के साथ आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत को छुट्टी देने का फैसला किया है, उन्हें नौ अप्रैल को कोरोना संक्रमित पाया गया था। इधर, महाराष्ट्र में कोरोना का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। प्रदेश के कई जिलों में लगातार नए मामले सामने आ रहे हैं। प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी के बीच मुकेश अंबानी ने सौ हट ऑक्सीजन देने का फैसला किया है।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र में वीरवार को कोरोना के 61695 नए ​​मामले सामने आए, 53335 रिकवर हुए और 349 मौतें हुईं हैं। इस बीच, मुंबई में कोरोना के 8217 नए मामले सामने आए, 49 मौतें हुईं और 10097 रिकवर हुए। सक्रिय मामलों की संख्या 85,494 है। वहीं, नागपुर में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 5813 नए मामले सामने आए, 74 मौतें हुुईं और 4634 रिकवर हुए। यहां कुल मामले 2,99,849 हैं। कुल 2,32,705 रिकवर हुए। सक्रिय मामले: 61,110 हैं। कोरोना से अब तक 6034 की जान गई है। इधर, पुणे में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 9956 नए मामले सामने आए, 8175 रिकवर हुए और 114 मौतें हुई हैं। यहां सक्रिय मामले 98,859 हैं। कुल मामले 6,85,970 हैं। कुल 5,76,177 रिकवर हुए। कोरोना से 11,103 की मौत हुई है।

इधर, अरबपति मुकेश अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड जामनगर में स्थित अपनी दो तेल रिफाइनरियों से महाराष्ट्र समेत कई राज्यों में ट्रकों से ऑक्सीजन पहुंचा रही है। इस औद्योगिक ऑक्सीजन में मामूली बदलाव से इसे चिकित्सकीय उपयोग के लायक बनाया जा सकता है। यह ऑक्सीजन वैश्विक महामारी कोविड-19 के मरीजों को दी जाएगी। सूत्रों के मुताबिक जामनगर की रिफाइनरी से सौ टन ऑक्सीजन की आपूर्ति की जा रही है। मानवीय जरूरतों के प्रति संवेदनशीलता दिखाते हुए कंपनी यह ऑक्सीजन निशुल्क मुहैया करा रही है।