चिराग को पहले बिहार विधानमंडल में CM नीतीश का झटका, अब JDU नेता ने दर्ज किया धोखाधड़ी का मुकदमा

 

एलजेपी सुप्रीमो चिराग पासवान एवं मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार। फाइल तस्‍वीरें।
एलजेपी अध्‍यक्ष चिराग पासवान के खिलाफ एलजेपी से निस्‍कासन के बाद जेडीयू में शामिल हुए केशव सिंह ने पटना में धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया है। इसके पहले चिराग को मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार का एक और झटका तब लगा जब एलजेपी का बिहार विधानमंडल में सूपड़ा साफ हो गया।

पटना, राज्य ब्यूरो। बिहार में जनशक्ति पार्टी  के अध्‍यक्ष चिराग पासवान को मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के जनता दल यूनाइटेड  ने बड़ा धक्‍का दिया है। जेडीयू के खिलाफ कमर कसकर मैदान में कूदे चिराग की पार्टी का जेडीयू ने बिहार विधानमंडल  में सूपड़ा साफ कर दिया है। इसके बाद अब एलजेपी से जेडीयू में आए नेता केशव सिंह ने चिराग पासवान पर बिहार विधानसभा चुनाव  में धोखाधड़ी करने का आरोप लगाते हुए पटना सिविल कोर्ट में मुकदमा दर्ज कर दिया है। दूसरी ओर एलजेपी ने चिराग पर लगाए गए आरोप को बेबुनियाद बताया है।

जेडीयू नेता ने चिराग पर किया आर्थिक घोखाधड़ी का मुकदमा

मिली जानकारी के अनुसार दर्ज मुकदमे में केशव सिंह ने चिराग पासवान पर आरोप लगाया है कि उन्‍होंने बिहार विधानसभा चुनाव में कई नेताओं को प्रत्‍याशी बनाने का भरोसा दिलाया था। इसके लिए  उनके सामने 25 हजार लोगों को पार्टी का सदस्य बनाने और विज्ञापन के लिए दो-दो लाख रुपये पार्टी फंड में जमा करने की शर्त रखी गई थी। केशव सिंह के अनुसार एलजेपी के 94 नेताओं ने चिराग पासवान के वादे पर भरोसा कर पार्टी के लिए सदस्य बनाए और अपने-अपने स्तर से मांगी गई राशि दी, लेकिन अधिकांश को निराशा हाथ लगी। चिराग पासवान ने एलजेपी के महज दो दर्जन नेताओं को ही विधानसभा चुनाव में प्रत्‍याशी बनाया। शेष प्रत्‍याशी बाहरी लोगों को बना दिया।

एलजेपी बोली: नीतीश को दिखाने के लिए लगाए गलत आरोप

इस बाबत हमने एलजेपी से उसका पक्ष भी जाना। पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता श्रवण कुमार अग्रवाल ने कहा कि केशव सिंह का आरोप बेबुनियाद है। केवल मीडिया में बने रहने और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को दिखाने के लिए वे चिराग पासवान पर झूठा आरोप लगा रहे हैं। अग्रवाल ने कहा कि हर राजनीतिक दल में नेतृत्व के कहने पर सदस्यता अभियान चलाया जाता है और इसके लिए सदस्यता शुल्क भी तय रहता है। केशव सिंह केवल झूठे आरोप के बूते केस कर कुछ हासिल नहीं करेंगे।

एक दिन पहले ही विधानमंडल में बुझ गया था एलजेपी का चिराग

जेडीयू नेता के इस मुकदमे के ठीक एक दिन पहले मंगलवार को जेडीयू ने एलजेपी के इकलौते चिराग को बुझा कर विधानसभा चुनाव के समय चिराग पासवान द्वारा नियमित रूप से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ तल्ख टिप्पणियों का पूरा हिसाब चुकता कर दिया। बिहार में एलजेपी के एकमात्र विधायक राजकुमार सिंह ने एलजेपी विधायक दल का जेडीयू में विलय कर दिया। इसके साथ बिहार विधानसभा व विधान परिषद में एलजेपी की सदस्‍यता शून्‍य हो गई है। इसे मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार का चिराग पासवान को बड़ा झटका माना जा रहा है। इसके साथ जेडीयू के विधायकों की कुल संख्या 45 हो गई है।