शुभ कार्यों प र Coronavirus का ग्रहण: विवाह का शुभ योग है, ग्रह-नक्षत्र भी ठीक हैं फिर भी टालनी पड़ी शादी

 

कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए कई ने टाल दी शादी, अब अक्टूबर, नवंबर में विवाह होगा। (प्रतीकात्‍मक फोटो)

कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। ऐसे में कई लोगों ने वैवाहिक समारोह को टाल दिया है। प्रयागराज में बड़ी संख्या में लोगों ने कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए शादी टाल दी है। अब अक्टूबर नवंबर में तारीख निकलवाकर वैवाहिक रस्में पूरी की जाएंगी।

प्रयागराज। शुभ कार्यों के लिए इस समय सभी ग्रह-नक्षत्र ठीक हैं। शादी का योग्य भी बना हुआ है। हालांकि इन सभी नक्षत्रों पर कोरोना वायरस का ग्रहण लग गया है। ऐसा ग्रहण, जिसके कारण 80 फीसद से अधिक वैवाहिक कार्यक्रम रद हो गए हैं। इससे बैंडबाजे, हलवाई, शादी का मंडप सजाने वाले, कारों की बुकिंग आदि व्यवसाय से जुड़े लोग प्रभावित हुए हैं। इनकी आर्थिक स्थिति बिगड़ गई है।

22 अप्रैल को शादी थी, कार्ड भी बंट गए थे और बैंडबाजा की भी हो चुकी थी बुकिंग

कीडगंज क्षेत्र के रहने वाले संजीव कुमार की 22 अप्रैल को शादी थी। कार्ड भी बांट दिए गए थे। बैंडबाजा आदि की बुकिंग भी हो गई थी। बरात तेलियरगंज जानी थी। हालांकि कोरोना ने ऐसा रूप दिखाया कि सात अप्रैल को होने वाले विवाह को घरवालों ने रद कर दिया। इसी प्रकार मुट्ठीगंज निवासी सुजीत गुप्ता की बरात 28 अप्रैल मनौरी जानी थी। इसके लिए पूरी तैयारी कर ली गई थी। घरवालों ने सोचा था कि 15 अप्रैल के बाद कोरोना का प्रकोप थमने लगेगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ और विवश होकर इनको शादी निरस्त करनी पड़ी।

कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए लोगों ने शादी टाल दी

बैरहना के रहने वाली पवन कुमार दास की बेटी की शादी 30 अप्रैल को थी। इसके लिए उन्होंने टेंट व्यवसायी को एडवांस देकर बुकिंग करा लिया था। हलवाई समेत अन्य लोगों को भी एडवांस दे दिया था, लेकिन कोरोना संक्रमण को देखते हुए पवन ने दूल्हे के घरवालों से बातचीत करते हुए शादी को रद कर दिया। इसी प्रकार बड़ी संख्या में लोगों ने कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए शादी टाल दी है। इन सभी का कहना है कि अब अक्टूबर, नवंबर में तारीख निकलवाकर वैवाहिक रस्में पूरी की जाएंगी।

आइए जानें, क्‍या कहते हैं बैंडबाजा संचालक

बैंडबाजा संचालक संदीप कुमार कहते हैं कि अप्रैल और मई में 28 बुकिंग थी लेकिन अभी तक एक भी बुकिंग नहीं कर सका। 23 बुकिंग तो रद हो चुकी है। पांच बुकिंग बची है जो मई के अंतिम सप्ताह की है। ऐसा लग रहा है कि यह भी रद हो जाएगी। इससे धंधा प्रभावित तो हुआ ही है, इससे जुड़े लोगों के सामने भी आर्थिक दिक्कत उत्पन्न हो गई है।

शादी-विवाह में कार्य करने वाले हलवाई के समक्ष आर्थिक संकट

हलवाई विमल यादव ने कहा कि पिछली बार भी कोरोना महामारी का असर शादी-विवाह पर पड़ा था। इस बार तो स्थिति और भी खराब है। 24 बुकिंग मिली थी लेकिन 19 बुकिंग रद हो चुकी है। जो बुकिंग बची है, उसमें बेहद कम लोगों की संख्या बताई गई है। ऐसे में आर्थिक संकट खड़ा हो गया है।