दमोह में स्थानीय लोगों ने राज्य में बढ़ते COVID मामलों के कारण खुद लागू किया दो दिन का लॉकडाउन
MP: दमोह में स्थानीय लोगों ने राज्य में बढ़ते COVID मामलों के कारण खुद लागू किया दो दिन का लॉकडाउन

दमोह जिले के हिनोता कस्बे में स्थानीय लोगों ने राज्य में बढ़ते COVID मामलों के मद्देनजर शनिवार और रविवार को खुद प्रतिबंध लगाना का फैसला किया है। चित्रकूट के नयागांव में बीते दिन रविवार को स्थानीय लोगों ने सरकारी अधिकारियों की एक टीम पर हमला बोल दिया।

भोपाल, एएनआइ। मध्यप्रदेश भी देश में उन राज्यों में से है, जहां कोविड के लगातार मामले बढ़ रहे हैं। वहीं, दमोह जिले के हिनोता कस्बे में स्थानीय लोगों ने राज्य में बढ़ते COVID मामलों के मद्देनजर शनिवार और रविवार को खुद प्रतिबंध लगाना का फैसला किया है। बीते दिन रविवार को एक स्थानिय ने बताया, 'दुकानदारों ने स्वेच्छा से दो दिनों के लिए अपनी दुकानें बंद रखने का फैसला किया है। इसे और बढ़ाया जा सकता है।'

उधर, चित्रकूट के नयागांव में बीते दिन रविवार को स्थानीय लोगों ने सरकारी अधिकारियों की एक टीम पर हमला बोल दिया। बताया गया कि वे सप्ताहांत लॉकडाउन लागू करने के लिए आए थे, लेकिन लोगों ने उनकी बात नहीं सुनी। इसपर एसएचओ संतोष तिवारी ने कहा, 'एक इलाके में, दुकानें खुली थीं और लगभग 15 लोग शराब पी रहे थे। जब पुलिस ने उनका पीछा करने की कोशिश की, तो उन्होंने पथराव किया।'

पूरे मध्‍य प्रदेश में लॉकडाउन लगाने पर क्या बोले शिवराज?

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रविवार को लॉकडाउन समस्या का समाधान नहीं है। पूरे प्रदेश में लॉकडाउन नहीं लगेगा। स्थानीय स्तर पर जिन नगरों ने तय किया है, वहां कोरोना कर्फ्यू है। यह उस तरह का लॉकडाउन नहीं है कि सारी गतिविधियां ठप हो जाएं। इसमें कई तरह की छूट है। आपदा प्रबंधन समूहों ने फैसला किया है कि कुछ दिन भीड़ वाली गतिविधियां बंद रखेंगे। आर्थिक गतिविधियां चलती रहनी चाहिए, ताकि लोगों की रोजी-रोटी प्रभावित न हो। लोग कोरोना कर्फ्यू का पालन करें तो संक्रमण को नियंत्रित किया जा सकता है।उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए महत्वपूर्ण है कि जनता खुद ही अनावश्यक बाहर न निकले। संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए कोरोना क‌र्फ्यू जैसे उपाय कारगर होते हैं।