जून के बाद जारी होगा 10वीं का परिणाम, यहां जानें सीबीएसई की 3 महत्वपूर्ण तारीख

 

10वीं का परिणाम अब 30 जून के बाद जारी किया जाएगा।

छात्रों का परिणाम यूनिट टेस्ट अर्धवार्षिक परीक्षाएं और प्री-बोर्ड परीक्षाओं के मिले अंकों आधार पर तैयार किया जाएगा। इसमें 20 अंक स्कूल आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर 10 अंक यूनिट टेस्ट 30 अंक अर्धवार्षिक परीक्षाओं के और 40 अंक प्री-बोर्ड परीक्षाओं के होंगे।

नई दिल्ली । केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) द्वारा 10वीं का परिणाम अब 30 जून के बाद जारी किया जाएगा। सीबीएसई के परीक्षा नियंत्रक संयम भारद्वाज ने मंगलवार को एक आधिकारिक परिपत्र जारी किया। उन्होंने बताया कि विभिन्न राज्यों में कोविड-19 महामारी, लाकडाउन, स्कूलों के शिक्षकों व अन्य कर्मचारियों की सुरक्षा को देखते हुए 10वीं के छात्रों के अंकों को सीबीएसई की वेबसाइट पर अपलोड करने के अंतिम तारीखें बढ़ा दी है। बोर्ड के मुताबिक अब स्कूल आंतरिक मूल्यांकन के 20 अंक और मूल्यांकन कमेटी द्वारा 80 में से तय किए जाने वाले अंक को 30 जून तक सीबीएसई की वेबसाइट पर अपलोड कर सकेंगे। ऐसे में बोर्ड 20 जून को परिणाम नहीं जारी करेगा।

परिणाम 30 जून के बाद मगर तारीख तय नहीं

उन्होंने कहा कि परिणाम अब 30 जून के बाद जारी होगा। लेकिन, अभी इसको जारी करने की तिथि तय नहीं की गई है। उन्होंने कहा कि बोर्ड परिणाम जारी करने की तिथि तो लेकर जल्द ही घोषणा करेगा। उल्लेखनीय है कि बोर्ड ने 20 जून तक छात्रों के परिणाम जारी करने और 11 जून तक आंतरिक मूल्यांकन के अंकों को सीबीएसई की वेबसाइट पर अपलोड करने के निर्देश दिए थे।

महत्वपूर्ण तारीखें

20 जून - वेबसाइट पर अंकों को अपलोड कर सकेंगे स्कूल

30 जून- बोर्ड की वेबसाइट पर अंक अपलोड करने की आखिरी तारीख

30 जून- आंतरिक मूल्यांकन (20 में से) के अंकों को अपलोड करने की आखिरी तारीख

छात्रों को ऐसे मिलेंगे अंक

छात्रों का परिणाम यूनिट टेस्ट, अर्धवार्षिक परीक्षाएं और प्री-बोर्ड परीक्षाओं के मिले अंकों आधार पर तैयार किया जाएगा। इसमें 20 अंक स्कूल आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर, 10 अंक यूनिट टेस्ट, 30 अंक अर्धवार्षिक परीक्षाओं के और 40 अंक प्री-बोर्ड परीक्षाओं के होंगे। वहीं, हर स्कूल में परिणाम तैयार करने के लिए एक समिति बनाई जाएगी। जिसमें स्कूल के प्रधानाचार्य और सात शिक्षक शामिल होंगे। इसमें पांच शिक्षक विभिन्न विषयों और दो नजदीकी स्कूल के होंगे। जिन छात्रों को इन परिणामों से संतुष्टि नहीं होगी। उन्हें एक बार फिर परीक्षा में बैठने को मौका दिया जाएगा।