बनकर गाैरव ने पंजाब के 13 कांग्रेसियाें से तय किया था सौदा, राजस्थान के नेता से भी ठगे थे दाे कराेड़

 

कांग्रेस नेताओं से ठगी करने वाले गौरव शर्मा उर्फ गोरा व प्रशांत किशाेर। (फाइल फाेटाे)

पंजाब में 2022 में हाेने वाले विधानसभा चुनाव के लिए गाैरव ने ठगी का बड़ा जाल बुना था। इसके लिए नेताओं से भी सौदा तय करने के लिए कार्रवाई शुरू कर दी थी। नकली पीके ने उन्हें टिकट दिलाने के लिए बाकायदा राशि भी तय कर ली थी।

लुधियाना, अमृतसर,  पंजाब के सीएम के चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर यानी पीके की आवाज निकाल कांग्रेस नेताओं को ठगने की योजना तैयार करने वाले गौरव शर्मा उर्फ गोरा ने राजस्थान के पूर्व कांग्रेस विधायक राम चंद्र सराधना से भी दो करोड़ की ठगी की थी। पूछताछ में यह बात भी सामने आई है कि ठगी करने में कामयाब रहने के बाद पंजाब के अलावा हरियाणा के कुछ कांग्रेस नेता भी उसके निशाने पर थे।

गौरव के खिलाफ पंजाब, राजस्थान और हरियाणा में धोखाधड़ी के पांच नहीं बल्कि 12 केस दर्ज हैं। पुलिस के अनुसार गौरव शर्मा ने पीके बनकर राजस्थान से कांग्रेस के पूर्व विधायक राम चंद्र सराधना को टिकट दिलवाने के लिए दो करोड़ रुपये में सौदा किया था। यह राशि उसने 80 लाख रुपये और 1.2 करोड़ रुपये की दो इंस्टालमेंट में ली। धोखाधड़ी का पता चलने पर गौरव के खिलाफ जयपुर के थाना चंद भजी में तीन दिसंबर, 2018 को एफआइआर नंबर 379 दर्ज की गई। उसी थाने में आठ जुलाई, 2019 को रामचंद्र सराधना की शिकायत पर ही एक और केस (एफआइआर नंबर 239) दर्ज किया गया।

दिसंबर, 2018 में दर्ज हुए केस में वह 56 दिन जेल में बंद रहा, जबकि दूसरे मामले में उसे जमानत मिल गई थी। पुलिस के अनुसार अब पंजाब में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर उसने यहां के 12-13 कांग्रेस नेताओं से भी सौदा तय करने के लिए कार्रवाई शुरू कर दी थी। नकली पीके ने उन्हें टिकट दिलाने के लिए बाकायदा राशि भी तय कर ली थी। पुलिस अधिकारियों ने अभी इन नेताओं के नाम बताने से इन्कार किया है। वहीं पुलिस सूत्रों का कहना है कि गौरव शर्मा का जालंधर के कांग्रेस विधायक परगट सिंह के मामले में कोई लेना देना नहीं है और न ही गौरव से कोई बात हुई है। पूछताछ में गौरव ने हरियाणा, राजस्थान के भी कई नेताओं का नाम लिए हैं। इनके साथ भी गौरव ने टिकट का सौदा तय करने के लिए बातचीत की थी। जांच टीम अब इन राज्यों की पुलिस टीम के साथ भी संपर्क करेगी।

गौरव के 12 साथी पुलिस के निशाने पर

ठगी के मामले में गिरफ्तार गौरव शर्मा के करीब 12 साथी पुलिस के निशाने पर हैं। पुलिस सूत्रों के अनुसार लुधियाना पुलिस के साथ ही अमृतसर पुलिस भी राजस्थान पुलिस के साथ मिलकर उसके साथियों की भूमिका की जांच कर रही है। पुलिस ने कुछ जगह छापामारी भी की है लेकिन गौरव के कई साथी भूमिगत हो चुके हैं। एसीपी हरमिंदर सिंह ने बताया कि आने वाले दिनों में कुछ और गिरफ्तारियां हो सकती हैं।