विशेष सचिव डॉ शमीम सहित जम्मू-कश्मीर में 30 लोगों की मौत, इसी माह 312 ने गवाई जान

 

कोरोना संक्रमण और महामारी की चपेट में आए मरीजों की जान बचाने का पूरा प्रयास कर रहा है।

शुक्रवार-शनिवार की मध्यरात्रि से लेकर अब हुई 30 लोगों की मौत में 19 मौतें जीएमसी जम्मू जबकि 11 मौतें कश्मीर संभाग में हुई हैं। आज मरने वाले लोगों में जम्मू कश्मीर के वरिष्ठ नौकरशाह और वित्त विभाग में विशेष सचिव शमीम अहमद वानी भी शामिल हैं।

जम्मू,  जम्मू-कश्मीर में देर शाम से दोपहर के बीच करीब 30 कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार इस आंकड़े में शाम तक और वृद्धि दर्ज की जा सकती है। कोरोना संक्रमितों के बढ़ते मामले और मरीजों की इतनी संख्या में हो रही मौत स्थिति को गंभीर बनाती जा रही है। जम्मू-कश्मीर में कोरोना महामारी से मरने वाले लोगों की संख्या 2642 पहुंच गई है। इसी माह की बात करें तो 312 लोग इस महामारी के कारण अपनी जान गंवा चुके हैं।

स्वास्थ्य विभाग प्रशासन की मदद से कोरोना संक्रमण और महामारी की चपेट में आए मरीजों की जान बचाने का पूरा प्रयास कर रहा है। परंतु सभी प्रयास विफल साबित होते नजर आ रहे हैं। भयावह बात यह है कि हर दिन बढ़ते कोरोना संक्रमित मरीजों के कारण अस्पतालों में बैड मिलना भी मुश्किल हो गया है। शुक्रवार-शनिवार की मध्यरात्रि से लेकर अब हुई 30 लोगों की मौत में 19 मौतें जीएमसी जम्मू जबकि 11 मौतें कश्मीर संभाग में हुई हैं। आज मरने वाले लोगों में जम्मू कश्मीर के वरिष्ठ नौकरशाह और वित्त विभाग में विशेष सचिव शमीम अहमद वानी भी शामिल हैं। वह जीएमसी अस्पताल जम्मू में उपचाराधीन थे।

विभाग से मिले आंकड़ों के अनुसार मरने वालों में रामबाग श्रीनगर का एक 75 वर्षीय व्यक्ति, बुगरू खानसाहब बडगाम का 70 वर्षीय व्यक्ति, गौरीलाल श्रीनगर के एक 76 वर्षीय व्यक्ति, पंथाचौक बटवारा का 58 वर्षीय व्यक्ति, बटमालू श्रीनगर की 67 वर्षीय महिला शामिल हैं। ये सभी मरीज काफी समय से अस्पताल में उपचाराधीन थे।

इसके अलावा जीएमसी अनंतनाग में उपचाराधीन चार लोगों ने भी इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। इसके अलावा मरने वालों में बनिहाल का एक 50 वर्षीय व्यक्ति, अनंतनाग की एक 80 वर्षीय महिला, नोवपोरा अनंतनाग का 68 वर्षीय व्यक्ति भी शामिल है। इन मौतों के साथ इस महीने अकेले 312 लोग मारे गए हैं। मारे गए कुल 2642 लोगों में 1526 कश्मीर जबकि 1116 जम्मू से थे।