दिल्ली एयरपोर्ट पर खोला गया वैक्सीनेशन सेंटर, 60,000 से ज्यादा कर्मचारियों को मिलेगी राहत

 

Delhi Airport COVID 19 Vaccination: दिल्ली एयरपोर्ट पर खोला गया वैक्सीनेशन सेंटर, 60,000 से ज्यादा कर्मचारियों को मिलेगी राहत

 मुताबिक विमान सेवा कंपनियों लॉजिस्टिक्स तकनीकी सेवा प्रदाताओं तथा अन्य हितधारकों समेत हवाई अड्डे पर काम करने वाले 60 हजार से अधिक कर्मचारी कार्यस्थल पर टीका लगवा सकेंगे। टीकाकरण केंद्र की स्थापना मणिपाल अस्पताल की सहायता से किया गया है।

नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। दिल्ली-एनसीआर समेत समूचे देशभर में कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ हथियार के तौर पर टीका ही प्रभावी है। ऐसे में अब दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड मंगलवार से हवाई अड्डे के टर्मिनल-1 पर संबंधित कर्मचारियों के लिए टीकाकरण केंद्र शुरू करेगा। DIAL के मुताबिक, विमान सेवा कंपनियों, लॉजिस्टिक्स, तकनीकी सेवा प्रदाताओं तथा अन्य हितधारकों समेत हवाई अड्डे पर काम करने वाले 60 हजार से अधिक कर्मचारी कार्यस्थल पर टीका लगवा सकेंगे।  टीकाकरण केंद्र की स्थापना मणिपाल अस्पताल की सहायता से किया गया है। टीकाकरण केंद्र दिल्ली एयरपोर्ट के टर्मिनल-1 के स्वागत परिसर में बनाया गया है। यहां पर एयरपोर्ट संचालकों से हवाई अड्डों पर काम करने वाले कर्मचारियों के लिए कार्यस्थलन पर टीकाकरण की सुविधा सुनिश्चित करने का निदेर्श दिया है।

कराना होगा पंजीकरण

यहां पर पोर्टल पर अथवा आरोग्य सेतु ऐप पर पंजीकरण कराने के बाद ही टीका लगवा सकेंगे। टीके का खर्च उन्हें स्वयं या अपने नियोक्ता के जरिये वहन करना होगा। DIAL के मुताबिक, दिल्ली एयरपोर्ट पर 18 साल से ज्यादा उम्र वर्ग के सभी कर्मचारी अपना रजिस्ट्रेशन COWIN.GOV.IN और आरोग्य सेतु ऐप (Arogya Setu App)  पर करा सकते हैं। इस केंद्र पर कोविशील्ड वैक्सीन की डोज दी जाएगी। यहां पर बता दें कि किसी को भी रजिस्ट्रेशन और थर्मल स्क्रीनिंग के बिना वैक्सीनेशन सेंटर में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

उधर, डायल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी विदेह कुमार जयपुरियार का कहना है कि कोरोना वायरस महामारी की शुरुआत से ही दिल्ली एयरपोर्ट और यहां काम करने वाले कर्मचारी अग्रिम पंक्ति में रहे हैं। ऐसे में इस खतरनाक वायरस से बचाने के लिए यह टीकाकरण अभियान शुरू कर रहे हैं।

यहां पर बता दें कि देश में अब कोरोना वायरस संक्रमण रोधी टीकाकरण जोर पकड़ेगा। सूत्रों के मुताबिक, जून महीने में ही एक करोड़ लोगों को टीका लगाने की तैयारी है। इसके साथ आने वाले महीनों में टीके की कमी नहीं रहेगी।