अरविंद केजरीवाल की तरह क्या झारखंड के सीएम हेमंत सोरेने ने भी तोड़ा है प्रोटोकॉल?


अरविंद केजरीवाल की तरह क्या झारखंड के सीएम हेमंत सोरेने ने भी तोड़ा है प्रोटोकॉल?
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ गोपनीय बैठकों का विवरण सार्वजनिक करने और प्रोटोकॉल के उल्लंघन करने का मुद्दा एक बार फिर चर्चा में है। इस बार निशाने पर हैं झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन।

नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ गोपनीय बैठकों का विवरण सार्वजनिक करने और प्रोटोकॉल के उल्लंघन करने का मुद्दा एक बार फिर चर्चा में है। इस बार निशाने पर हैं झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन। दरअसल, इससे पहले दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पीएम मोदी के के साथ हुई वर्चुअल बैठक का लाइव टेलिकास्ट कर दिया था। यह अलग बात है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एतराज जताने पर अरविंद केजरीवाल ने बड़ी विनम्रता से माफी मांग ली थी, लेकिन झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ऐसा गलती से नहीं किया। 

दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुछ राज्यों के मुख्यमंत्रियों से फोन पर बात करके कोरोना महामारी की स्थिति के बारे में जानकारी ली थी। इस कड़ी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को भी फोन किया था। इसके बाद हेमंत सोरेन ने खुद ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। इसके साथ ही उन्होंने इस ट्वीट में प्रधानमंत्री पर एकतरफा संवाद का आरोप लगाते हुए तंज भी कसा।

हेमंत सोरेन ने कहा है कि बेहतर होता अगर पीएम मोदी काम की बात करते और काम की बात सुनते। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ट्वीट में कहा कि 'आज आदरणीय प्रधानमंत्री जी ने फोन किया। उन्होंने सिर्फ अपने मन की बात की। बेहतर होता यदि वो काम की बात करते और काम की बात सुनते।'

इस पर भारतीय जनता पार्टी नाराज है। इसके बाद भाजपा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ गोपनीय बैठकों का विवरण सार्वजनिक वाले और प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने वाले मुख्यमंत्रियों के खिलाफ आक्रामक होने का फैसला किया है। भाजपा नेताओं की मानें तो एक पखवाड़े के दौरान यह दूसरा मौका है, जब बातचीत के दौरान चर्चा में आए मुद्दों का राजनीतिकरण करने के इरादे से प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के बीच कॉल का विवरण सार्वजनिक किया गया है। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बीएल संतोष ने पीएम मोदी के साथ उनकी टेलीफोनिक बातचीत के बारे में झारखंड के सीएम द्वारा बताए गए विवरण की निंदा करने के लिए ट्वीट किया- 'यह वह स्तर है, जिस पर कुछ राजनेता रुक रहे हैं। पीएम ने कॉल किया और COVID-19 संकट के बारे में विस्तृत बातचीत की और इस सीएम ने ऐसा ट्वीट किया। उनके पास अपने पद के लिए आवश्यक न्यूनतम अनुग्रह की कमी है।'

... इसलिए नाराज हुए हेमंत सोरेन

बताया जा रहा है कि झारखंड के सीएम हेमंत सोरेन अपने राज्य से संबंधित मुद्दे के बारे में अवगत कराने की अनुमति नहीं देने से नाराज हैं। बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केवल कोविड-19 की स्थिति पर चर्चा की। हेमंत सोरेन के बयानों से ऐसा लग रहा है जैसे यह संवाद एकतरफा था।