कोरोना से स्वस्थ होने के बाद भी इन बातों का रखें खयाल, पोस्ट कोविड लक्षण से रहे अलर्ट

 


कोरोना का नया स्ट्रेन पहले से ज्यादा खतरनाक है।

सेक्टर-39 स्थित कोविड अस्पताल के विशेषज्ञ चिकित्सक डॉ. श्रीतेश मिश्रा बताते हैं कि ठीक होने के तीन सप्ताह बाद भी कोरोना से ठीक हो चुके लोगों की तबीयत में सुधार नहीं हो रहा है। वहीं कई मरीज ऐसे भी सामने आए है जोकि ठीक होने के बाद गंभीर हुए हैं।

नोएडा, कोरोना का नया स्ट्रेन पहले से ज्यादा खतरनाक है। ऐसे में कोरोना के 20 फीसद संक्रमितों में पोस्ट कोविड लक्षण तीन सप्ताह से लेकर तीन माह तक रह सकते हैं। विशेषज्ञों ने ऐसे मरीजों को चेस्ट विशेषज्ञ की देखरेख में रहने की सलाह दी है। सेक्टर-39 स्थित कोविड अस्पताल के विशेषज्ञ चिकित्सक डॉ. श्रीतेश मिश्रा बताते हैं कि ठीक होने के तीन सप्ताह बाद भी कोरोना से ठीक हो चुके लोगों की तबीयत में सुधार नहीं हो रहा है। वहीं, कई मरीज ऐसे भी सामने आए है, जोकि ठीक होने के बाद गंभीर हुए हैं।

यह उन लोगों में ज्यादा देखा जा रहा है, जिन्हें कोरोना फोबिया, हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, हृदय रोग, पेट की बीमारियां पहले से हैं। ऐसा भी हो सकता है कि मरीज को कोरोना से बचाने के लिए स्टारइड ज्यादा दिया गया हो। कोविड के साथ ही पोस्ट कोविड मरीजों के लिए भी गाइडलाइन जारी की गई है। सी रिएक्टिव प्रोटीन, व्हाइट सेल काउंट, फेरीटिन, ट्रोपोनिन, नाइट्रियूरेटिक पेपटाइड टेस्ट कराने की सलाह दी जा रही है। साथ ही पोस्ट कोविड मरीजों आक्सीजन देने की भी जरूरत पड़ रही है, हालांकि यह परेशानी सभी को नहीं है।बंद घर होने से भी बढ़ रही परेशानी नोएडा में अधिकांश लोग फ्लैटों में रहते हैं। खिड़की दरवाजे बंद होने के कारण हवा पास नहीं हो पाती है। यह भी पोस्ट कोविड दिक्कतों का एक बड़ा कारण हो सकता है। घर में वेंटिलेशन के लिए खिड़कियां खुली रखनी चाहिए।

ये हो सकते हैं लक्षण

  1. खांसी
  2. बुखार और थकान
  3. सांस की तकलीफ
  4. सीने व सिर में दर्द
  5. मांसपेशियों में दर्द
  6. कमजोरी
  7. गेस्ट्रो संबंधी परेशानी

ऐसे होगा बचाव

  • रोज पल्स आक्सीमीटर से जांच
  • पौष्टिक आहार
  • नींद व आराम
  • कैफीन
  • धूमपान व शराब से परहेज
  • व्यायाम में वृद्धि
  • लेटकर बीच-बीच में लंबी सांसें लें
  • शारीरिक व मानसिक गतिविधियां न्यूनतम रखें