राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कहा- राजभवन की सुरक्षा में बरती जा रही कोताही

 

पश्चिम बंगाल राज्यपाल जगदीप धनखड़ राजभवन की सुरक्षा में कोताही
राज्य के संवैधानिक प्रमुख के खिलाफ नारेबाजी हुई। राज्यपाल ने कहा कि इन दौरान राजभवन परिसर में तैनात पुलिस निष्क्रिय रही। समूचे राजभवन परिसर में धारा 144 लागू रहती है फिर भी वहां लोगों को जमा होकर विरोध- प्रदर्शन करने दिया गया। घटनाओं पर विस्तृत रिपोर्ट तलब की गई है।

राज्य ब्यूरो, कोलकाता। राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने राजभवन की सुरक्षा में कोताही बरते जाने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि गत सोमवार को कुछ अराजक तत्वों ने राजभवन के सामने विरोध-प्रदर्शन किया। इसके बाद मंगलवार को भी एक व्यक्ति ने भेड़ों के साथ राजभवन के सामने प्रदर्शन किया। राज्यपाल ने कहा कि इन दोनों घटनाओं के दौरान राजभवन परिसर में तैनात पुलिस निष्क्रिय रही। समूचे राजभवन परिसर में धारा 144 लागू रहती है, फिर भी वहां लोगों को जमा होकर विरोध- प्रदर्शन करने दिया गया। राजभवन की तरफ से कोलकाता के पुलिस आयुक्त से इन दोनों घटनाओं पर विस्तृत रिपोर्ट तलब की गई है।

राज्यपाल ने कहा-'मैंने गौर किया कि राजभवन के नॉर्थ गेट के पास कुछ अराजक तत्वों ने पुलिसकर्मियों की मौजूदगी में सुरक्षा का उल्लंघन किया। उन लोगों का तथाकथित विरोध-प्रदर्शन दो घंटे से ज्यादा समय तक जारी रहा। राज्य के संवैधानिक प्रमुख के खिलाफ नारेबाजी हुई। उन लोगों ने नॉर्थ गेट को भी अवरुद्ध कर दिया। इस दौरान मौके पर मौजूद वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की ओर से कोई कदम नहीं उठाया गया। कानून का उल्लंघन होता रहा। किसी को भी दंडित नहीं किया गया।

पुलिस ने उस घटना से कोई सीख नहीं ली। उसके अगले दिन मंगलवार को राजभवन के नॉर्थ गेट के सामने ही एक व्यक्ति ने भेड़ों के झुंड के साथ प्रदर्शन किया। उसे वहां से हटाने के लिए भी पुलिस की ओर से कोई प्रयास नहीं किया गया। राज्यपाल ने कहा कि उन्होंने इन दोनों घटनाओं पर कोलकाता के पुलिस आयुक्त से रिपोर्ट मांगी है।