भरतपुर राजपरिवार के पूर्व सदस्य व कांग्रेस विधायक के पुत्र ने पिता को बताया शराबी और मां के प्रति हिंसक

 

भरतपुर के राजपरिवार के पूर्व सदस्य व कांग्रेस विधायक विश्वेंद्र सिंह और उनके पुत्र अनिरुद्ध के बीच तकरार। फाइल फोटो

सचिन पायलट के साथ पिछले साल बगावत करने वाले वरिष्ठ विधायक और भरतपुर राजपरिवार के पूर्व सदस्य विश्वेंद्र सिंह के पुत्र अनिरुद्ध ने अपने पिता पर शराबी और मां के पति हिंसक होने का आरोप लगाया है।

जयपुर, संवाददाता। राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के साथ पिछले साल बगावत करने वाले वरिष्ठ विधायक और भरतपुर राजपरिवार के पूर्व सदस्य विश्वेंद्र सिंह के पुत्र अनिरुद्ध ने अपने पिता पर शराबी और मां के पति हिंसक होने का आरोप लगाया है। अनिरुद्ध ने ट्वीट में लिखा कि पिछले छह सप्ताह से मैं अपने पिता के संपर्क में नहीं हूं। वे मेरी मां के प्रति हिंसक हो गए, कर्ज ले लिया, शराबी हो गए और जो दोस्त मेरी मदद करते हैं, उनके व्यापार को बर्बाद कर दिया। यह केवल राजनीतिक विचाराधाराओं का अंतर नहीं है। इस मामले में विश्वेंद्र सिंह से बात करने का प्रयास किया गया तो वे उपलब्ध नहीं हुए। विश्वेंद्र सिंह का अपनी पत्नी दिव्या सिंह व पुत्र अनिरुद्ध के साथ करीब दो माह से राजनीतिक व पारिवारिक मामलों को लेकर विवाद चल रहा है।

विश्वेंद्र सिंह ने अपने ट्वीट, फेसबुक सहित सभी सोशल मीडिया अकाउंट बंद कर दिए। अपने ट्विटर हैंडल से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और कांग्रेस के खिलाफ किए गए ट्वीट से विश्वेंद्र सिंह नाराज थे। उनका ट्वीटर हैंडल अनिरुद्ध ही चलाते थे। अनिरुद्ध ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व भाजपा के पक्ष में कई ट्वीट पिछले दिनों किए थे। इसी बात को लेकर पिता और पुत्र के बीच विवाद हुआ, जो अब काफी आगे बढ़ गया है। पारिवारिक विवाद के बीच विश्वेंद्र सिंह ने पिछले माह मुख्यमंत्री से भी मुलाकात की थी।

गौरतलब है इससे पहले इसी साल जनवरी में राजस्थान के पूर्व मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता विश्वेंद्र सिंह के पुत्र अनिरुद्ध सिंह ने केंद्र सरकार के तीनों कृषि कानूनों का विरोध करने वालों पर निशाना साधा था। सोशल मीडिया पर अनिरुद्ध सिंह ने कृषि कानूनों का समर्थन करते हुए विरोध करने वालों को निशाने पर लिया तो कांग्रेस कार्यकर्ताओं व किसान आंदोलन के समर्थकों ने पलटवार किया। इस पर विवाद बढ़ता देख अनिरुद्ध सिंह ने सफाई दी। अनिरुद्ध सिंह ने अपनी पोस्ट में लिखा कि मेरा परिवार हमेशा किसानों के साथ रहा है। मेरा परिवार तन-मन और धन से किसानों के साथ है। जब मोदी सरकार किसान बिल में संशोधन करने के लिए कह चुकी तो फिर यह अल्का लांबा नौटंकी क्यों हो रही है। इस पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कड़ी आपत्ति जताई तो उन्होंने दूसरी पोस्ट में सफाई दी, लेकिन इसमें कांग्रेस का नाम लिए बिना निशाना साधा। उन्होंने लिखा कि मैं साफ कर दूं कि मैं किसानों के साथ हूं, भारत किसानों के बगैर कुछ भी नहीं और हम भी किसानों के बगैर कुछ भी नहीं है। विश्वेंद्र सिंह पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के विश्वस्तों में शामिल हैं। पायलट की बगावत के समय विश्वेंद्र सिंह उनके साथ रहे थे। विश्वेंद्र सिंह समय-समय पर अशोक गहलोत सरकार को घेरते रहे हैं।