दिल्ली से सटे नोएडा में महिला चलाने लगी देह व्यापार रैकेट, खुला राज चौंक गई पुलिस

दिल्ली से सटे नोएडा में महिला लॉकडाउन में चलाने लगी देह व्यापार रैकेट, खुला राज चौंक गई पुलिस

 नोएडा सेक्टर-122 पर्थला गांव में महिला द्वारा चलाए जा रहे देह व्यापार के रैकेट को पकड़ा गया है। पुलिस ने मौके से तीन महिला और तीन पुरुषों को गिरफ्तार किया है। आरोपितों के पास से चार मोबाइल दो पर्स 9860 रुपये और आपत्तिजनक सामान बरामद हुआ है।

नोएडा, संवाददाता। दिल्ली से सटे यूपी के नोएडा शहर में देह व्यापार रैकेट का खुलासा हुआ है। नोएडा थाना फेज-3 पुलिस ने सेक्टर-122 पर्थला गांव में एक महिला द्वारा चलाए जा रहे देह व्यापार के रैकेट को पकड़ा गया है। नोएडा पुलिस ने मौके से तीन महिला और तीन पुरुषों को गिरफ्तार किया है। आरोपितों के पास से चार मोबाइल, दो पर्स, 9,860 रुपये और आपत्तिजनक सामान बरामद हुआ है। इसके अलावा पुलिस को एक रजिस्टर भी मिला है, जिसमें ग्राहकों के नाम और उनके द्वारा दिए जाने वाले रुपयों का जिक्र है।

थाना फेज-3 के थाना प्रभारी जितेंद्र दीखित ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली कि सेक्टर 122 पर्थला गांव में शीला नाम की महिला अपने मकान में देह व्यापार का रैकेट चला रही है। सूचना के आधार पर पुलिस ने टीम ने बताई गई जगह पर छापा मारा तो मौके से तीन महिला तथा तीन पुरुषों को गिरफ्तार किया। आरोपितों की पहचान शामली के मल्हेडी निवासी अरुण, सेक्टर-71 जनता फ्लैट निवासी नरेंद्र लाल और हाथरस के गांव अकोली निवासी पुनीत के रूप में हुई है।

आरोपित महिलाओं की पहचान देवरिया के बघौचघाट निवासी शीला देवी, मुरादाबाद के सुल्तानपुर निवासी नेहा और दिल्ली के रोहिणी निवासी कोमल के रूप में हुई है। शीला इस समय सेक्टर-57 में रह रही थी और इस रैकेट का संचालन कर रही थी। थाना प्रभारी ने बताया कि आरोपित महिला काफी समय से देह व्यापार का रैकेट चला रही थी। वह फोन के माध्यम से ग्राहकों और महिलाओं को बुलाकर देह व्यापार कराती थी।

पूछताछ में पता चला कि यह लोग करीब चार-पांच महीने से देह व्यापार रैकेट चला रहे थे। आरोपित महिला ने बताया कि यह लोग पहले फैक्ट्रियों-कंपनियों में काम करते थे। बाद में धीरे-धीरे अपना काम बदल दिया और देह व्यापार रैकेट शुरू कर दिया। लॉकडाउन में इन लोगों के पास जब पैसों की कमी हुई तो इस धंधे को और बढ़ा लिया। एसएचओ ने बताया कि इन लोगों ने हाल के दिनों में रेट भी बढ़ा दिए थे और अब 800 की जगह 1000 रुपये ले रहे थे