चक्रवात यास के चलते बंगाल में भारी तबाही, जानें दिल्‍ली, यूपी, बिहार और झारखंड में कैसा रहेगा मौसम

 

चक्रवात यास भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील हो चुका है। जानें कैसा रहेगा मौसम...

चक्रवात यास के चलते पश्चिम बंगाल और ओडिशा में जोखिम वाले क्षेत्रों से लाखों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। पश्चिम बंगाल चक्रवात सबसे अधिक प्रभावित हुआ है। जानें दिल्‍ली यूपी बिहार और झारखंड में कैसा रहेगा मौसम...

नई दिल्‍ली, एजेंसियां। चक्रवात यास भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील हो चुका है। इसके चलते पश्चिम बंगाल और ओडिशा में जोखिम वाले क्षेत्रों से लाखों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। लगातार हो रही बारिश के चलते हावड़ा में गंगा नदी का जलस्तर बढ़ गया है। तूफान बुधवार को सुबह ओडिशा के भद्रक जिले के तट से टकराया। बाद में वह दक्षिणी बालासोर के 20 किलोमीटर करीब से गुजरा। इसके चलते 140 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं। इस तूफान के चलते किन राज्‍यों पर क्‍या असर हुआ और आगे इससे क्‍या प्रभाव पड़ेगा। पढ़ें यह रिपोर्ट...

पश्चिम बंगाल में भारी तबाही

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बताया कि पश्चिम बंगाल चक्रवात सबसे अधिक प्रभावित हुआ है। चक्रवात के कारण सूबे में कम से कम एक करोड़ लोग प्रभावित हुए हैं जबकि तीन लाख मकानों को नुकसान पहुंचा हुआ है। तूफान के कारण समुद्र में ऊंची लहरें उठती रहेंगी। राज्‍य में 15,04,506 लोगों को संवेदनशील स्थानों से सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।

ओडिशा में भारी बारिश

ओडिशा में संवेदनशील क्षेत्रों से 5.80 लाख लोगों को सुरक्षित स्थलों पर पहुंचाया गया है। चक्रवात धामरा बंदरगाह के पास बुधवार सुबह पहुंचा। इस दौरान 130 से 140 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं। ओडिशा के अधिकतर हिस्सों में बारिश हुई। सर्वाधिक बारिश भद्रक जिले के चांदबाली में 27.3 सेंटीमीटर हुई। इससे बाद पारादीप में 19.7 सेंटीमीटर, बालासोर 5.1 सेंटीमीटर और भुवनेश्वर 4.9 सेंटीमीटर बारिश हुई।

दिल्‍ली में ऐसा रहेगा मौसम

राष्ट्रीय राजधानी पर इसका कोई खास असर नहीं पड़ने का अनुमान है। मौसम विभाग के मुताबिक मई अंत तक शहर में लू चलने का पूर्वानुमान है। मालूम हो कि पश्चिमी विक्षोभ के कारण पहले राष्‍ट्रीय राजधानी क्षेत्र में तापमान कम रहा और फिर चक्रवात ताउते के कारण रिकार्ड बारिश हुई।

झारखंड और बिहार के कुछ हिस्‍सों में होगी बारिश

मौसम का पूर्वानुमान जारी करने वाली निजी एजेंसी स्‍काइमेट वेदर की रिपोर्ट के मुताबिक अगले 24 घंटों के दौरान चक्रवात यास कमजोर होकर ओडिशा के अंदरूनी हिस्सों पर डीप डिप्रेशन में बदल जाएगा। आगे बढ़ते हुए यह झारखंड पर एक दबाव के रूप में कमजोर पड़ जाएगा। इससे झारखंड और बिहार के कुछ हिस्सों में मध्यम से भारी बारिश और गरज के साथ बौछारें जारी रहने की संभावना है।

पूर्वी यूपी में भी बारिश का पूर्वानुमान

स्‍काइमेट वेदर ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि उत्तर पूर्व भारत के हिस्‍सों में भी हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक दो स्थानों पर भारी बारिश संभव है। 24 घंटों के बाद पूर्वी यूपी के कुछ हिस्‍सों में हल्की से मध्यम बारिश की संभावना है। यही नहीं तटीय कर्नाटक, लक्षद्वीप, तमिलनाडु के अलग-अलग हिस्सों में हल्‍की से मध्यम बारिश संभव है। विदर्भ, मराठवाड़ा, कोंकण के साथ ही गोवा के कुछ हिस्सों में बारिश का पूर्वानुमान है।