कट्टरपंथियों के एजेंडे को पूरी दुनिया में लागू कराना चाहते हैं इमरान, मुस्लिम देशों को एक जुट करने की कोशिश

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की फाइल फोटो

ज्ञात हो कि पाकिस्तान में कट्टरपंथी संगठन तहरीक ए लब्बैक ने फ्रांस के राजदूत को उनके देश में ईशनिंदा के हुए मामले पर देश से निकालने की मांग की थी। बाद में इस संगठन के हजारों समर्थक सड़क पर उतर आए और जबर्दस्त हिंसा हुई।

इस्लामााबाद, एएनआइ। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अपने देश में प्रतिबंधित कट्टरपंथी संगठन तहरीक ए लब्बैक के आगे पूरी तरह घुटने टेक चुके हैं। अब इमरान खान कट्टरपंथियों के ईशनिंदा कानून को पूरी दुनिया में लागू करने के एजेंडे को आगे बढ़ाने में लग गए हैं। उनका इरादा है कि इस कानून को पूरी दुनिया में लागू कराया जाए। इसके लिए वह मुस्लिम देशों को लामबंद करने में जुट गए हैं।

उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि ईशनिंदा के मामले में सभी मुस्लिम देश एक जुट हों। फ्रांस की तरह ईशनिंदा के मामले अगर सामने आते हैं, तो उस देश के साथ व्यापार करने पर पाबंदी लगाई जाए।

ज्ञात हो कि पाकिस्तान में कट्टरपंथी संगठन तहरीक ए लब्बैक ने फ्रांस के राजदूत को उनके देश में ईशनिंदा के हुए मामले पर देश से निकालने की मांग की थी। बाद में इस संगठन के हजारों समर्थक सड़क पर उतर आए और जबर्दस्त हिंसा हुई। तीन दिन बाद ही पाक प्रधानमंत्री ने प्रतिबंधित संगठन के आगे झुक गए। अब उनकी मांगो को इमरान आगे बढ़ाते रहे हैं।ज्ञात हो कि पाकिस्तान के साथ ही 12 देशों में ईश निंदा के खिलाफ कानून बना हुआ है, जिसमें फांसी की सजा तक का प्रविधान है।