कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर को लेकर दिल्ली सरकार गंभीर, सीएम ने बुलाई हाई लेवल मीटिंग

कोरोना की संभावित तीसरी लहर को लेकर दिल्ली सरकार की हाई लेवल मीटिंग।

दिल्ली सरकार की बुधवार को हाई लेवल मीटिंग हुई। इस मीटिंग में सीएम अरविंद केजरीवाल ने तैयारियों को लेकर अधिकारियों के साथ चर्चा की और कई महत्वपूर्ण निर्णय भी लिए। मीटिंग में तीसरी लहर में बच्चों को बचाने के लिए एक विशेष टास्क फोर्स का गठन करने को कहा गया।

नई दिल्ली,  संवाददाता। राजधानी में भले ही कोरोना संक्रमण के मामलों में अब थोड़ी कमी आई हो मगर तीसरी लहर आने का खतरा अभी भी बना हुआ है। तीसरी लहर को ध्यान में रखते हुए दिल्ली सरकार की बुधवार को हाई लेवल मीटिंग हुई। इस मीटिंग में सीएम अरविंद केजरीवाल ने तैयारियों को लेकर अधिकारियों के साथ चर्चा की और कई महत्वपूर्ण निर्णय भी लिए। इस मीटिंग में तीसरी लहर में बच्चों को बचाने के लिए एक विशेष टास्क फोर्स का गठन करने को कहा गया। इसके अलावा बेड, ऑक्सीजन और दवाओं की पहले से तैयारियों के लिए एक अधिकारियों की टीम बनाने की बात कही गई। साथ ही ऑक्सीजन की सप्लाई और उसकी उपलब्धता को लेकर प्राथमिकता के आधार पर काम करने के लिए कहा गया।

क्योंकि दूसरी लहर के दौरान राजधानी में ऑक्सीजन का संकट था, यहां मांग के हिसाब से ऑक्सीजन उपलब्ध नहीं हो पा रही थी। जिसकी वजह से कई मरीजों की जान भी चली गई। इसको ध्यान में रखते हुए इस बार ऐसी स्थिति न उत्पन्न होने पाएं इस वजह से ऑक्सीजन की उपलब्धता को प्राथमिकता देने की बात कही गई है। साथ ही कई अस्पतालों में अब ऑक्सीजन प्लांट भी स्थापित कर दिए गए हैं। ऑक्सीजन के स्टोरेज के लिए भी काम किया जा रहा है जिससे आपात स्थिति पैदा होने पर दूसरे राज्यों से इसके लिए निवेदन न करना पड़े।

उधर राजधानी में संक्रमण तेजी से कम हो रहा है। इससे संक्रमण दर 8.42 फीसद से घटकर 6.89 फीसद पर आ गई है, जो पिछले 42 दिनों में सबसे कम है। इससे पहले छह अप्रैल को संक्रमण दर 4.93 फीसद थी। इसके बाद संक्रमण दर बढ़ती चली गई। इससे 22 अप्रैल को संक्रमण दर 36.24 फीसद पहुंच गई थी। इस लिहाज से संक्रमण दर पांच गुना से ज्यादा कम हुई है। इससे मंगलवार को 43 दिनों में सबसे कम 4482 नए मामले आए। इससे दिल्ली में कोरोना के कुल मामले 14 लाख के पार पहुंच गए हैं।

नए मरीजों की तुलना में दोगुने से ज्यादा मरीज ठीक हुए हैं। इससे मरीजों के ठीक होने की दर 94.79 फीसद हो गई है। साथ ही सक्रिय मरीजों की संख्या अब 48.80 फीसद कम हो चुकी है, लेकिन चिंताजनक यह है कि 24 घंटे में 265 मरीजों की मौत हो गई। 99,361 सक्रिय मरीज 30 अप्रैल को थे 50,863 सक्रिय मरीज अब बचे हैं 14,399 मरीज अब अस्पताल में भर्ती हैं20,142 मरीज तीन मई को अस्पतालों में भर्ती थे 28.51 फीसद मरीज तीन मई से अब तक कम हुए हैं 657 मरीज कोविड केयर सेंटर में हैं 128 मरीज कोविड हेल्थ सेंटर में भर्ती हैं