दिल्‍ली पुलिस की टीम ने बिहार में जमाया डेरा, नालंदा के बाद पटना के दानापुर से पकड़े गए कोरोना काल के ठग


दिल्‍ली पुलिस ने बिहार में साइबर ठग को किया गिरफ्तार। प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

 दिल्ली पुलिस और बिहार की आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) की टीम ने राजधानी पटना के दानापुर के तकियापर इलाके से विजय को पकड़ा। उसके पास से कई बैंकों के पासबुक और एटीएम जब्त किए गए हैं।

पटना, राज्य ब्यूरो। दिल्ली के कोविड मरीजों व उनके स्वजनों को ऑक्सीजन सिलेंडर तथा रेमडेसिविर दवा उपलब्ध कराने के नाम पर 16 लाख से अधिक की ठगी करने वाले साइबर अपराधी विजय बेनेडिक्ट को पुलिस ने सोमवार को गिरफ्तार कर लिया।  दिल्ली पुलिस और बिहार की आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) की टीम ने राजधानी पटना के दानापुर के तकियापर इलाके से विजय को पकड़ा। उसके पास से कई बैंकों के पासबुक और एटीएम जब्त किए गए हैं। राजधानी के पाटलिपुत्र शाखा स्थित कोटक महिंद्रा बैंक के खाते की जांच में 16.60 लाख रुपये पाए गए। इससे एक दिन पहले ही बिहार के नालंदा जिले से दिल्‍ली पुलिस की साइबर सेल ने ऐसे ही अपराधियों को पकड़ा था। इन्‍हें पकड़ने के लिए साइबर सेल की टीम एक हफ्ते तक नालंदा में रही।

इंटरनेट मीडिया के जरिये मरीजों के स्‍वजनों से साधा संपर्क

ईओयू के अधिकारियों के अनुसार, पूछताछ में उसने अपना अपराध स्वीकार करते हुए माना कि यह राशि ऑक्सीजन सिलेंडर और रेमडेसिविर दवाएं उपलब्ध कराने के नाम पर ठगी गई थी। दरअसल, साइबर ठग इंटरनेट मीडिया पर नंबर जारी कर ऑक्सीजन सिलेंडर और रेमडेसिविर सहित जरूरी दवाओं की आपूर्ति करने का दावा करते हैं। जरूरतमंद मरीजों व उनके स्वजनों से इसके बदले कुछ राशि एडवांस मांगी जाती है। जैसे ही राशि इनके अकाउंट में आती है, यह अपना मोबाइल ऑफ कर लेते हैं। इसके बाद दूसरे नंबर से ठगी जारी रहती है।

बहन के मोबाइल नंबर पर करता था फ्रॉड

ईओयू के अधिकारियों ने बताया कि साइबर ठग विजय ने बैंक अकाउंट खोलते समय अपनी बहन का मोबाइल नंबर दिया था। ऐसे में जब पुलिस बैंक में पूछताछ करने पहुंची और मोबाइल नंबर पता किया तो वह उसकी बहन का निकला। इसके बाद बहन से पूछताछ की गई जिसके बाद शातिर ठग का पता चला।

चार साइबर ठग पहले हो चुके हैं गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने 23 अप्रैल को साइबर ठगी का मामला कांड संख्या 114/21 दर्ज किया था। इसके बाद से ही पुलिस साइबर ठगों की तलाश में थी। पुलिस ने बैंक अकाउंट और मोबाइल नंबर के सिम के आधार पर जांच शुरू की तो बिहार का कनेक्शन सामने आया। इसके बाद से दिल्ली पुलिस की एक टीम पटना में डेरा जमाए हुए है। पिछले सप्ताह भी इस मामले में चार साइबर ठगों को गिरफ्तार किया जा चुका है, जिसमें दो की गिरफ्तारी दानापुर के तकियापर इलाके से ही हुई थी। पुलिस सभी आरोपितों से पूछताछ कर रही है।