अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन बोले, अमेरिका सहित पूरी दुनिया में लोकतंत्र प तरा र खतरा

 


अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन बोले, अमेरिका सहित पूरी दुनिया में लोकतंत्र पर खतरा

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा है कि अमेरिका सहित पूरी दुनिया में लोकतंत्र पर खतरा है। बाइडन आर्लिग्टन में युद्ध में मारे गए अमेरिकी लोगों की याद में हुए कार्यक्रम में विचार व्यक्त कर रहे थे। सीएनएन ने उनके इस वक्तव्य को प्रकाशित किया है।

वाशिंगटन, एएनआइ। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा है कि अमेरिका सहित पूरी दुनिया में लोकतंत्र पर खतरा है। बाइडन आर्लिग्टन में युद्ध में मारे गए अमेरिकी लोगों की याद में हुए कार्यक्रम में विचार व्यक्त कर रहे थे। सीएनएन ने उनके इस वक्तव्य को प्रकाशित किया है।

उन्होंने कहा कि अमेरिका के लिए जो युद्ध में मारे गए हैं, उनके त्याग और बलिदान का कर्ज किसी भी रूप में नहीं चुकाया जा सकता है। हम अपने शहीदों को किस तरह से याद रखते हैं, इसी पर निर्भर होगा कि भविष्य में लोकतंत्र सुरक्षित रख पाते हैं या नहीं। उन्होंने कहा कि सहानुभूति लोकतंत्र की ताकत है। हमें एक दूसरे को दुश्मन या पड़ोसी की तरह नहीं देखना चाहिए , बल्कि सहानुभूति के साथ देखना चाहिए। जब हम असहमत होते हैं तो हमें समझना होगा कि दूसरा किस स्थिति से गुजर रहा है। बाइडन ने दुनिया में बढ़ती तानाशाही के बारे में कहा कि उदारीकरण, अवसर और न्याय मिलने की संभावना तानाशाही वाले शासन से ज्यादा लोकतंत्र में होती है।

म्यांमार जैसा तख्ता पलट अमेरिका में भी होना चाहिए 

अमेरिका में ट्रंप समर्थक अपनी हार अभी पचा नहीं पा रहे हैं। ट्रंप सरकार में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जैसे महत्वपूर्ण पद पर रहे माइकल फ्लिन ने इस बात का समर्थन किया है कि म्यांमार जैसा तख्ता पलट अमेरिका में भी होना चाहिए। फ्लिन एक कार्यक्रम में थे, जिसमें एक दर्शक ने उनसे सवाल किया था कि क्या जो म्यांमार में हुआ, वह यहां नहीं हो सकता।इस पर फ्लिन ने कहा, क्यों नहीं, यहां पर भी होना चाहिए। सीएनएन के मुताबिक ट्रंप समर्थक कई माह से म्यांमार में सैन्य तख्ता पलट का जश्न मना रहे हैं। उनका मानना है कि अमेरिका में भी ऐसा ही तख्तापलट होना चाहिए। जिससे डोनाल्ड ट्रंप दोबारा राष्ट्रपति बन सकें।