कोरोना से जान गंवाने वाले गरीब तबके के लोगों के परिजनों को दो लाख रुपए की आर्थिक मदद देगी गोवा सरकार

 

गोवा सरकार ने कोरोना की मार झेलने वाले गरीब परिवारों की आर्थिक मदद का एलान किया है।

गोवा सरकार ने कोरोना की मार झेलने वाले गरीब परिवारों की आर्थिक मदद का एलान किया है। राज्‍य सरकार ने कहा कि कमजोर तबके के लोगों या घर के कमाने वाले सदस्य की कोरोना संक्रमण से मौत पर वह पीड़ित परिवार को दो लाख रुपए की आर्थिक मदद देगी।

पणजी, पीटीआइ। गोवा सरकार ने कोरोना संकट की मार झेलने वाले गरीब परिवारों की आर्थिक मदद का एलान किया है। राज्‍य सरकार ने रविवार को कहा कि कमजोर तबके के लोगों या घर के कमाने वाले सदस्य की कोरोना संक्रमण से मौत पर वह पीड़ित परिवार को दो लाख रुपए की आर्थिक मदद देगी। गोवा की स्थापना दिवस के मौके पर मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने अपने संबोधन में कहा कि बेसहारा बच्चों को वित्तीय मदद पहुंचाने के लिए 'मुख्यमंत्री अनाथ आधार योजना' भी शुरू की जाएगी।

प्रमोद सावंत ने कहा कि बाल देखभाल संस्थान में रहने वालों की उम्र भी बढ़ाकर 21 साल कर दी गई है जबकि दसवीं कक्षा में पढ़ने वाले ऐसे छात्रों को राज्य सरकार मुफ्त लैपटॉप मुहैया कराएगी। मुख्यमंत्री  ने बताया कि उनकी सरकार महामारी से निपटने के लिए कई प्रयास कर रही है। गोवा में संक्रमण दर तेजी से कम हो रही है। मुख्‍यमंत्री ने यह भी बताया कि 18 से 44 साल की उम्र के लोगों के लिए टीकाकरण का दूसरा चरण तीन जून से शुरू किया जाएगा। 

प्रमोद सावंत  ने बताया कि टीकाकरण के अगले चरण में दो साल से कम उम्र के बच्चों के माता-पिता, विभिन्न रोगों से ग्रस्त लोगों, रिक्शा-टैक्सी ड्राइवरों, दिव्यांग लोगों को प्राथमिकता दी जाएगी। मुख्‍यमंत्री  ने कहा कि कुछ कानूनी दस्तावेजों में गोवा, दमन एवं दीव का जिक्र रहता है लेकिन अब उस पर केवल गोवा लिखा होगा।

मुख्‍यमंत्री  ने बताया कि राज्य का विधि विभाग इस बारे में कदम उठाएगा। इस बीच कोरोना संकट को देखते हुए गोवा सरकार ने कोई जाखिम नहीं मोल लेने का भी फैसला किया है। सूबे में अब सात जून की सुबह सात बजे तक कर्फ्यू को बढ़ा दिया गया है। पिछली बार 31 मई तक कर्फ्यू बढ़ाया गया था।