हरियाणा सीएम मनोहर नहीं देंगे हुड्डा के पत्र का जवाब, Delhi CM केजरीवाल को बताया नौटंकीबाज

 

पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा, दिल्‍ली सीएम अरविंद केजरीवाल और हरियाणा सीएम मनोहरलाल की फाइल फोटो।

हरियाणा के मुख्‍यमंत्री मनोहरलाल ने राज्‍य के पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर हमला किया है। वहहुड्डा के सर्वदलीय बैठक बुलाने को लेकर लिखे पत्र का जवाब नहीं देंगे। इसके साथ ही उन्‍होंने दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल को नौटंकीबाज करार दिया।

चंडीगढ़। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने विपक्ष खासकर पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा को कोरोना महामारी पर राजनीति न करने की नसीहत दी है। उन्‍होंने हुड्डा पर जमकर निशाना साधा। मनोहरलाल ने कहा कि सर्वदलीय बैठक बुलाने को लेकर हुड्डा के पत्र का वह जवाब भी नहीं देंगे। मनोहरलाल केंद्र सरकार पर वैक्सीन नहीं देने के आरोप लगाने वाले दिल्ली के सीएम अरविं(द केजरीवाल पर भी खूब बरसे। उन्‍होंने कहा कि केजरीवाल तो हैं ही पुराने नौटंकीबाज।

हुड्डा और केजरीवाल पर जमकर बरसे मनोहर लाल, महामारी में राजनीति के लगाए आरोप

सर्वदलीय बैठक बुलाने की बाबत हुड्डा द्वारा लिखे गए पत्र पर मनोहर लाल ने कहा कि इस पत्र में उनकी सरकार के प्रति नकारात्मक मानसिकता साफ झलक रही है। बैठक बुलाने से पहले ही जब हुड्डा सरकार पर आरोप लगा रहे हैं तो उनसे किसी सहयोग की उम्मीद नहीं की जा सकती। ऐसे में मैं हुड्डा के पत्र का जवाब देना भी जरूरी नहीं समझता।

कहा - सर्वदलीय बैठक बुलाने के पीछे विपक्ष की मंशा ठीक नहीं, सिर्फ राजनीति कर रहे

चंडीगढ़ में डिजिटल तरीके से मीडिया से बातचीत के दौरान मनोहर लाल ने कहा, हुड्डा और सैलजा बार-बार सर्वदलीय बैठक बुलाने की मांग करते हैं। हुड्डा ने तो उन्हें इस बारे में पत्र भी लिखा है। मैंने जब वह पत्र पढ़ा तो उसकी शुरुआत ही सरकार पर आरोप लगाने से की गई है। पिछली बार हमने पांच सर्वदलीय बैठकें बुलाई। उसमें विपक्ष के अच्छे सुझाव भी आए। हमने उन्हें माना और लागू किया है, मगर इस बार विपक्ष महामारी और किसान संगठनों के आंदोलन पर पूरी तरह से राजनीति करने की ताक में है।

मनोहरलाल ने कहा, हम उनके यह मंसूबे पूरे नहीं होने देंगे। मैं हुड्डा के पत्र का जवाब नहीं दूंगा। वह कहते हैं कि सरकार ने महामारी को नहीं समझा। हमारा मानना है कि महामारी से सरकार ही तो निपट रही है। वह किसान संगठनों के साथ बातचीत करने के लिए सरकार को कहते हैं, लेकिन क्या कभी हुड्डा ने खुद आगे बढ़कर किसान संगठनों से यह कहा कि वह जिद छोड़कर अपने घरों को जाएं और कोरोना की जांच कराने के साथ ही इंजेक्शन लगवाएं।

उन्‍होंने कहा कि हुड्डा इसलिए यह बात किसान संगठनों से नहीं कहते, क्योंकि उन्हें उनके कंधे पर बंदूक रखकर राजनीति करनी है। सीएम ने माना कि किसान संगठनों के आंदोलन की वजह से गांवों में कोरोना फैला है। पिछली लहर की अपेक्षा इस बार किसान संगठनों के आंदोलन में आने जाने वाले गांवों के लोगों की वजह से 10 गुना अधिक मौतें हुई हैं। सामान्य मौत का प्रतिशत मात्र एक या दो होता है, लेकिन गांवों में 10 प्रतिश तक अधिक मौतें दर्ज की गई हैं।

कोरोना से बचाव की वैक्‍सीन पर केजरीवाल के आरोपों का दिया जवाब

मनोहर लाल ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल द्वारा केंद्र पर वैक्सीन नहीं देने के आरोप लगाए जाने का कड़ा जवाब दिया। उन्होंने कहा कि दिल्ली की आबादी करीब दो करोड़ है और उसे 51 लाख इंजेक्शन मिले हैं। हरियाणा की आबादी दो करोड़ 90 लाख है और उसे 58 लाख इंजेक्शन मिले। आबादी के हिसाब से हमें 74 लाख इंजेक्शन मिलने चाहिए थे। केजरीवाल पुराने नौटंकीबाज हैं और अब वह महामारी को आधार बनाकर ड्रामा कर रहे हैं। उनके विरोध के वही सुर हैं, जो हुड्डा के हैं। केजरीवाल ने वैक्‍सीनेशन की योजना सही तरीके से नहीं बनाई।