WHO ने सीरम इंस्टीट्यूट को कोवैक्स प्रतिबद्धता की याद दिलाई, क्या दोबारा विदेश भेजनी होगी वैक्सीन?

 

WHO ने सीरम इंस्टीट्यूट को कोवैक्स प्रतिबद्धता की याद दिलाई, क्या दोबारा विदेश भेजनी होगी वैक्सीन?

WHO ने कहा है कि भारत में महामारी शांत होने के बाद अन्य देशों को वैक्सीन की आपूर्ति करनी होगी। वर्चुअल संवाददाता सम्मेलन के दौरान डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ने कहा कि दुनियाभर में कोरोना के मामले बढ़ने से वैक्सीन की आपूर्ति में कमी आई है।

न्यूयार्क, प्रेट्र। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के प्रमुख टेड्रोस अधनोम घेब्रेयसस ने कहा है कि भारत में कोरोना महामारी का प्रकोप शांत होने के बाद सीरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया को अपने ट्रैक पर लौटना होगा और कोवैक्स प्रतिबद्धता के तहत वैक्सीन की आपूर्ति सुनिश्चित करनी होगी। कोवैक्स एक वैश्विक पहल है, जिसके तहत दुनियाभर के देशों को वैक्सीन की आपूर्ति की जानी है।

वर्चुअल संवाददाता सम्मेलन के दौरान डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ने कहा कि दुनियाभर में कोरोना के मामले बढ़ने से वैक्सीन की आपूर्ति में कमी आई है। जून के अंत तक कोवैक्स के तहत 19 करोड़ डोज वैक्सीन में कमी आने की आशंका है। कोवैक्स अभियान के तहत 124 देशों को अब तक 6.5 करोड़ डोज वैक्सीन की आपूर्ति की जा चुकी है। यह अभियान विभिन्न देशों और वैक्सीन उत्पादकों द्वारा अपनी प्रतिबद्धता का पालन करने पर निर्भर करता है। यूनिसेफ का कहना है कि भारत में कोरोना की खतरनाक स्थिति का कोवैक्स अभियान के तहत वैक्सीन की आपूर्ति पर प्रभाव पड़ा है। भारत को वैक्सीन उत्पादन का एक वैश्विक केंद्र बताते हुए इसने कहा कि भारत में महामारी की स्थिति से कोवैक्स के तहत वैक्सीन की उपलब्धता गंभीर रूप से प्रभावित हुई है। बता दें कि भारत में ही वैक्सीन की किल्लत देखने को मिल रही है।  

राजधानी दिल्ली समेत कई जगहों पर वैक्सीनेशन सेंटर बंद करने पड़े हैं। आम आदमी पार्टी सरकार लगातार केंद्र सरकार को वैक्सीन की सप्लाई के मुद्दे पर घेर रही है। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने सोमवार को कहा कि दिल्ली सरकार बड़े स्तर पर वैक्सीनेशन का काम कर रही है। मगर वैक्सीन सप्लाई नहीं की जा रही। उन्होंने कहा कि हमने सवाल उठाया था कि विदेशों में वैक्सीन सप्लाई के बाद देश में वैक्सीन की कमी हुई, लेकिन जितनी भी सप्लाई हो रही है, हमारी कोशिश है कि वैक्सीनेशन सुचारू रूप से चल सके। बता दें कि जनता जब रजिस्ट्रेशन करने जा रही है, तो वहां उन्हें स्लोट फुल मिल रहे हैं। दूसरे-दूसरे राज्यों में भी मौके तलाशे जा रहे हैं। वहीं, कांग्रेस पार्टी ने भी भाजपा के खिलाफ वैक्सीन को लेकर जंग छेड़ी हुई है।