दिल्ली समेत देशभर के 14 लाख से अधिक छात्रों के लिए आज का दिन है अहम

 


CBSE 12th Exam: दिल्ली समेत देशभर के 14 लाख से अधिक से छात्रों के लिए बुधवार का दिन होगा अहम

सीबीएसई ने अप्रैल में कोरोना संकट के मद्देनजर 1 जून तक परीक्षाएं स्थगित रखने का एलान किया था जबकि 10वीं की परीक्षाएं नहीं कराने का फैसला लिया था। ऐसे में देखना होगा कि 2 जून को सीबीएसई परीक्षा को लेकर क्या रणनीति सामने रखता है।

नई दिल्ली । केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड  की 12वीं की परीक्षाओं को निरस्त करने या आयोजित करने पर मंगलवार को ही बड़ा एलान हो सकता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सीबीएसई 10वीं की परीक्षा कराने या न कराने के सभी प्रस्तावित विकल्पों पर चर्चा करने के बाद मंगलवार को अंतिम फैसले की घोषणा कर सकते हैं। विशेषज्ञों द्वारा मंगलवार को ही अंतिम फैसला आने की संभावना जताई जा रही है। ऐसे में मंगलवार को ही इस पर फैसला हो सकता है।

इस बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को फिर ट्वीट करते हुए 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं निरस्त करने की मांग की है। उन्होंने ट्विट किया है- 12वीं की परीक्षा को लेकर बच्चे और पेरंट्स काफ़ी चिंतित हैं। वे चाहते हैं कि बिना वैक्सिनेशन, 12वीं की परीक्षा नहीं होनी चाहिए। मेरी केंद्र सरकार से अपील है कि 12वीं की परीक्षा रद की जाए। पिछली पर्फोमेंस के आधार पर उनका आकलन किया जाए। 'माना जा रहा है कि सीबीएसई परीक्षाओं का आयोजन करेगा। वहीं, 12वीं की परीक्षाओं को कब और कैसे आयोजित किया जाएगा, इसका योजना बाद में बनाकर सुप्रीम कोर्ट के समक्ष पेश की जा सकती है। दरअसल, सीबीएसई ने अप्रैल में कोरोना संकट को देखते हुए 1 जून 2021 तक परीक्षाएं स्थगित रखने का एलान किया था, जबकि 10वीं की परीक्षाएं नहीं कराने का फैसला लिया था। ऐसे में देखना होगा कि अब 2 जून यानी बुधवार को सीबीएसई परीक्षा को लेकर आगे क्या रणनीति सामने रखता है।बता दें कि सीबीएसई के साथ-साथ काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (CISCE) की कक्षा 12 की परीक्षाओं को रद्द कीए जाने की लगातार मांग की जा रही है। इसी बीच 12वीं परीक्षाओं को लेकर एक जून, मंगलवार को केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय और सीबीएसई की ओर अपना आखिरी फैसला सुनाया जा सकता है।

गौरतलब है कि पिछले महीने 23 मई रक्षामंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में हुई हाई-लेवल मीटिंग के बाद केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने अपने एक वीडियो संदेश में बताया था कि सीबीएसई 12वीं की परीक्षाओं को लेकर फैसला एक जून को या इससे पहले किया जाएगा। वहीं, यह मामला सुप्रीम कोर्ट में चला गया तो अब बताया जा रहा है कि बुधवार को इस पर केंद्र सरकार की ओर से कोई अहम फैसला लिया जाएगा।

डेढ़ घंटे की बहुविकल्पीय प्रश्नों वाली परीक्षा के पक्ष में कई प्रदेश

पिछले महीने दिल्ली समेत कई राज्यों ने अपनी राय शिक्षा मंत्रालय को भेजी थी, जिसमें से अधिकांश राज्यों ने सरकार की ओर से दिए गए प्रस्ताव बी यानी डेढ़ घंटे की परीक्षा कराने की हिमायत की थी। वहीं, अन्य बाकी विषयों का मूल्यांकन मुख्य विषयों में प्रदर्शन के अनुसार किया जाए।