केंद्र ने राज्यों को अब तक दी साढ़े 30 करोड़ से अधिक वैक्सीन, अभी भी बची है 1.5 करोड़ से ज्यादा डोज

 


अगले 3 दिनों में मिलेगी 47 लाख से अधिक वैक्सीन डोज।(फोटो: दैनिक जागरण)

राज्यों को 47 लाख से अधिक डोज तीन दिन में और मुहैया कराई जाएंगी। राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को अब तक साढ़े 30 करोड़ से अधिक वैक्सीन खुराक प्रदान की गई। राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के पास 1.50 करोड़ से अधिक वैक्सीन बची हुई है।

नई दिल्ली, एएनआइ। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को अब तक साढ़े 30 करोड़ से अधिक वैक्सीन खुराक प्रदान की गई हैं। केंद्र ने कहा कि राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के पास 1.50 करोड़ से अधिक शेष और अप्रयुक्त कोरोना वैक्सीन डोज अभी भी उपलब्ध हैं।मंत्रालय ने कहा कि टीकाकरण कार्यक्रम के नए संशोधित दिशानिर्देश लागू होने के पहले 72 घंटों में दो करोड़ से अधिक वैक्सीन खुराक दी गई। भारत सरकार और प्रत्यक्ष राज्य खरीद श्रेणी के माध्यम से अब तक केंद्र राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों को साढ़े 30 करोड़ (30,54,32,450) से अधिक वैक्सीन डोज दे चुका है।

मंत्रालय ने कहा कि इसमें से अपव्यय सहित कुल खपत 29,04,04,264 खुराक (गुरुवार को सुबह 8 बजे उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार) है। 1.50 करोड़ से अधिक (1,50,28,186) शेष और अप्रयुक्त कोरोना वैक्सीन डोज अभी भी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के पास उपलब्ध हैं जिनका इस्तेमाल किया जाना चाहिए। मंत्रालय ने कहा कि इसके अलावा, 47,00,000 से अधिक वैक्सीन डोज रास्ते में हैं और वे अगले तीन दिन में उन्हें मिल जाएंगी। केंद्र सरकार पूरे देश में कोरोना टीकाकरण की गति तेज करने और इसके दायरे का विस्तार करने के लिए प्रतिबद्ध है। कोरोना टीकाकरण का नया चरण 21 जून से शुरू हुआ है।

देश में कोरोना की स्थिति

नए मामले 51,667

कुल मामले 3,01,34,445

मौतें 1,329

कुल मौतें 3,93,310

सक्रिय मामले 6,12,868

ठीक हुए 64,527

कुल ठीक हुए 2,91,28,267

जांचें (गुरुवार को) 17,35,781

कुल जांचें (गुरुवार तक)39,95,68,448

राज्यों के बीच टीकों का वितरण पारदर्शी तरीके से : केंद्र

प्रत्येक राज्य को कोरोनारोधी टीकों का वितरण उसकी जनसंख्या, संक्रमण के मामलों, उपयोग दक्षता और बर्बादी संबंधी कारकों के आधार पर किया गया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुवार को मीडिया की उन खबरों का खंडन किया जिसमें टीकों के गैर पारदर्शी वितरण का आरोप लगाया गया है।मंत्रालय ने कहा कि राज्यों के बीच गैर पारदर्शी तरीके से टीका वितरण किए जाने के आरोप पूरी तरह निराधार हैं।