शहर में बनेंगे 3.61 लाख मकान, प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सरकार ने 708 प्रस्तावों को दी मंजूरी

 


शहर में होगा 3.61 लाख मकानों का निर्माण, प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सरकार ने दी मंजूरी

प्रधानमंत्री आवास योजना-शहर (PMAY-U) के तहत सरकार ने 3.61 लाख मकानों के निर्माण वाले 708 प्रस्तावों को मंजूरी दी है। (MoHUA) द्वारा जारी किए गए प्रेस रिलीज के अनुसार इस बैठक में 13 राज्यों व केंद्रशासित प्रदेशों के प्रतिनिधि शामिल हुए थे।

 नई दिल्ली, एएनआइ। प्रधानमंत्री आवास योजना-शहर  के तहत सरकार ने 3.61 लाख मकानों के निर्माण वाले 708 प्रस्तावों को मंजूरी दी है। PMAY-U के तहत दिल्ली में आयोजित की गई CSMC  की बैठक में यह फैसला लिया गया। आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय द्वारा जारी किए गए प्रेस रिलीज के अनुसार इस बैठक में 13 राज्यों व केंद्रशासित प्रदेशों के प्रतिनिधि शामिल हुए थे। कोविड -19 महामारी की दूसरी लहर के दौरान यह समिति की पहली बैठक थी। इससे यह भी पता चलता है कि सरकार ने 2022 तक शहरी भारत के सभी पात्र लाभार्थियों को ‘सभी के लिए आवास’ की दृष्टि से पक्के घर उपलब्ध कराने के उद्देश्य को पर्याप्त महत्व दिया।

बैठक में MoHUA के सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा (Durga Shanker Mishra) ने 'PMAY- U Awards 2021 - 100 Days Challenge' लॉन्च किया। ये अवार्ड उन राज्यों व केंद्रशासित प्रदेशों को दिया जाएगा जिनकी ओर से इसमें बेहतर योगदान दिया जाएगा। इस योजना के तहत मकानों का निर्माण लाभार्थी के नेतृत्व में उनके हिसाब से और उनकी भागीदारी में किफायती आवास के तौर पर किए जाने का प्रस्ताव है। आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय ने ‘पीएमएवाई–यू के तहत निर्धारित समय के भीतर पूरे देश में आवास निर्माण पूरा करने में तेजी लाने पर जोर दिया है।

दुर्गा शंकर मिश्र ने कहा, 'मंजूरी की मांग सभी राज्यों/ केंद्रशासित प्रदेशों से की जा रही है। अप्रयुक्त धन का उपयोग और निर्धारित समय के भीतर परियोजनाओं को पूरा करना सुनिश्चित करना अब हमारा मुख्य फोकस है।'

अब तक PMAY-U के तहत स्वीकृत घरों की कुल संख्या 112.4 लाख है जिनमें से अब तक 82.5 लाख घरों के निर्माण के लिए आधार तैयार किए जा चुके हैं और इनमें से भी 48.31 लाख पूरे/ वितरित किए जा चुके हैं।

बैठक में MoHUA ने 6 लाइट हाउस परियोजनाओं पर जोर दिया जिसकी नींव प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसी साल जनवरी में रखी थी। ये लाइट हाउस अगरतला , चेन्नई, लखनऊ , रांची, राजकोट और इंदौर में बनाए जाएंगे।