अगले तीन दिनों में राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों को कोरोना टीके की 56 लाख से अधिक डोज उपलब्ध कराएगी केंद्र सरकार


भारत में कोरोना टीकाकरण जारी। (फाइल फोटो)

केंद्र सरकार अगले तीन दिनों में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को 56 लाख से अधिक वैक्सीन खुराक उपलब्ध कराएगी। गुरुवार को स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसकी जानकारी दी। मंत्रालय ने अधिकारीक बयान में कहा कि वैक्सीन 5670350 से अधिक खुराक पाइपलाइन में हैं

नई दिल्ली, एएनआइ। केंद्र सरकार अगले तीन दिनों में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को 56 लाख से अधिक वैक्सीन खुराक उपलब्ध कराएगी। गुरुवार को स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसकी जानकारी दी। मंत्रालय ने आधिकारिक बयान में कहा कि वैक्सीन 56,70,350 से अधिक खुराक पाइपलाइन में हैं और अगले 3 दिनों के भीतर राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश इसे प्राप्त कर लेंगे। फिलहाल कोरोना वैक्सीन की दो करोड़ 18 लाख 28 हजार 483 खुराक अभी भी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के पास उपलब्ध है।

मंत्रालय ने बयान में यह भी बताया कि भारत सरकार (मुफ्त चैनल) के माध्यम से और प्रत्यक्ष राज्य खरीद श्रेणी के माध्यम से अब तक राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को 27.28 करोड़ (27,28,31,900) से अधिक वैक्सीन की खुराक प्रदान की जा चुकी है। आज सुबह 8 बजे उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार इसमें से कुल  25,10,03,417 खुराक की खपत हो चुकी है। इसमें बर्बाद डोज भी शामिल है। 2.18 करोड़ (2,18,28,483) से अधिक कोरोना वैक्सीन की खुराक अभी भी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के पास उपलब्ध हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने आगे बताया कि राष्ट्रव्यापी कोरोना टीकाकरण अभियान के तहत अब तक वैक्सीन की 26.55 करोड़ (26,55,19,251)  खुराक दी जा चुकी है। बता दें कि भारत ने इस साल 16 जनवरी को चरणबद्ध तरीके से दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान शुरू किया। इसमें स्वास्थ्यकर्मियों को सबसे पहले टीका लगाया गया। इसके बाद फ्रंटलाइन वर्कर्स (FLWs) का टीकाकरण 2 फरवरी को शुरू हुआ।

कोविड -19 टीकाकरण का अगला चरण 1 मार्च से 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों और गंभीर बीमारी से ग्रस्त 45 साल से अधिक आयु के लोगों के लिए शुरू हुआ। भारत ने 1 अप्रैल से 45 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों के लिए टीकाकरण शुरू किया। टीकाकरण अभियान का तीसरा चरण 1 मई को 18-44 आयु वर्ग के लाभार्थियों के लिए शुरू किया गया था। भारत में तीन टीकों कोविशील्ड, कोवैक्सीन स्पुतनिक  वी का इस्तेमाल हो रहा है।