पद्म श्री प्रोफेसर राधामोहन का 78 साल की उम्र में हुआ निधन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जताया शोक

 


पद्म श्री प्रोफेसर राधामोहन के निधन पर पीएम ने जताया शोक।(फोटो: दैनिक जागरण)

पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित और प्रख्यात अर्थशास्त्री से ओडिशा के पर्यावरणविद् बने राधामोहन ने शुक्रवार को भुवनेश्वर के एक निजी अस्पताल में इलाज के दौरान अंतिम सांस ली। वह 78 वर्ष के थे। उनके निधन पर पीएम मोदी ने शोक जताया है।

नई दिल्ली, एएनआइ। पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित और प्रख्यात अर्थशास्त्री से ओडिशा के पर्यावरणविद बने राधामोहन का शुक्रवार को निधन हो गया। वह 78 वर्ष के थे। जब उनका भुवनेश्वर के एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा था। उनके निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने शोक जताया है। पीएम मोदी ने ट्वीट कर लिखा- प्रोफेसर राधामोहन जी कृषि के प्रति विशेष रूप से स्थायी और जैविक प्रथाओं को अपनाने के प्रति गहरे जुनूनी थे। उन्हें अर्थव्यवस्था और पारिस्थितिकी से संबंधित विषयों पर उनके ज्ञान के लिए भी सम्मानित किया गया था। उनके निधन से दुखी हूं। उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति संवेदना। शांति।राधामोहन को पिछले साल उनकी बेटी के साथ कृषि में उनके काम के लिए भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म श्री से सम्मानित किया गया था। उन्हें ओडिशा के नयागढ़ जिले में केवल जैविक तकनीकों का उपयोग करके भूमि के एक अपमानित टुकड़े को एक विशाल खाद्य वन में बदलने के उनके प्रयासों के लिए श्रेय दिया गया।

पिता-पुत्री की जोड़ी ने जैविक खेती तकनीक सीखने और बीजों के आदान-प्रदान के लिए देश भर के किसानों के लिए संसाधन केंद्र के रूप में संभव की शुरुआत की। उल्लेखनीय है कि स्वर्गीय प्रोफेसर राधामोहन ओडिशा राज्य के पूर्व सूचना आयुक्त भी थे।

पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित राधामोहन के निधन पर ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक और अन्य प्रतिष्ठित हस्तियों ने गहरा शोक व्यक्त किया है।

जीवन परिचय

राधामोहन का जन्म 30 जनवरी 1943 को नयागढ़ जिले के रंगानी पटना गांव में हुआ था। उन्होंने ओडगांव में अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की और एससीएस कॉलेज, पुरी से अर्थशास्त्र में ऑनर्स के साथ स्नातक किया। उन्होंने 1965 में उत्कल विश्वविद्यालय से एप्लाइड इकोनॉमिक्स में मास्टर डिग्री हासिल की।