चारधाम यात्रा : एक ही लिंक से होगा यात्रियों व वाहनों का रजिस्ट्रेशन

 


उत्‍तराखंड में चारधाम यात्रा को लेकर पर्यटन व परिवहन विभाग में तैयारियां चल रही हैं।

प्रदेश में चारधाम यात्रा को लेकर पर्यटन व परिवहन विभाग में तैयारियां चल रही हैं। पर्यटन विभाग चारधाम में आने वाले यात्रियों का पंजीकरण अनिवार्य कर रहा है तो वहीं परिवहन विभाग की योजना दूसरे राज्यों से आने वाले सभी वाहनों का पंजीकरण कर ट्रिप कार्ड जारी करने की है।

राज्य ब्यूरो, देहरादून। प्रदेश में चारधाम यात्रा को लेकर पर्यटन व परिवहन विभाग में तैयारियां चल रही हैं। पर्यटन विभाग चारधाम में आने वाले यात्रियों का पंजीकरण अनिवार्य कर रहा है तो वहीं परिवहन विभाग की योजना दूसरे राज्यों से आने वाले सभी वाहनों का पंजीकरण कर ट्रिप कार्ड जारी करने की है। ऐसे में यात्रियों की सुविधाओं के लिए एनआइसी के सहयोग से दोनों विभाग एक ही लिंक जारी करने की योजना पर काम कर रहे हैं, जिसमें यात्रियों व वाहनों का पंजीकरण एक ही जगह किया जा सके।

उत्तराखंड के चारों धामों व हेमकुंड साहिब की यात्रा में प्रतिवर्ष लाखों यात्री आते हैं। वे चारों धामों में जाने के लिए या तो वाहन किराये पर लेते हैं या फिर निजी वाहनों से आते हैं। यहां आने वाले यात्रियों की सही संख्या जानने और वाहनों पर नजर रखने के लिए पर्यटन विभाग ने इस वर्ष सभी यात्रियों के रजिस्ट्रेशन की योजना बनाई है। इसके तहत चारधाम में आने वाले यात्रियों को पर्यटन विभाग की वेबसाइट में पंजीकरण कराना होगा। चारधाम यात्रा सुचारू करने का निर्णय लेने के बाद इस योजना का प्रचार प्रसार किया जाएगा।

इसी तर्ज पर परिवहन विभाग भी चारधाम आने वाले दूसरे राज्यों के सभी दुपहिया व चौपहिया वाहनों का पंजीकरण अनिवार्य करने जा रहा है। यह पंजीकरण भी आनलाइन करने की योजना है। यदि कोई वाहन पंजीकरण नहीं कराता है तो चारधाम यात्रा मार्ग पर बनी चेक पोस्ट पर इनका पंजीकरण किया जाएगा। यात्रियों को अलग-अलग पंजीकरण की दिक्कत न हो इसके लिए दोनों विभाग एनआइसी की सहयोग से एक ही लिंक तैयार कर रहे हैं।

इस लिंक में क्लिक करने के बाद आवेदक सीधा पर्यटन विभाग की वेबसाइट में जाकर स्वयं व सहयोगियों का पंजीकरण करा सकेगा। यह जानकारी भरने के बाद स्वयं ही परिवहन विभाग की वेबसाइट खुल जाएगी। यात्री वहां वाहन का पंजीकरण कराने के साथ ही निर्धारित शुल्क भी जमा कर सकेगा। सचिव परिवहन डा. रणजीत सिन्हा का कहना है कि एनआइसी ने इस पर कार्य शुरू कर दिया है। जल्द ही यह तैयार हो जाएगा।