हरियाणा के सीएम मनोहर लाल व केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुर्जर के बीच मंत्रणा ने कई चर्चाओं को दिया जन्म

 


मनोहर लाल एवं कृष्णपाल गुर्जर की फाइल फोटो।

चंडीगढ़ में हरियाणा मुख्यमंत्री निवास पर सीएम मनोहर लाल व केंद्रीय मंत्री कृष्णपाल गुर्जर के बीच लगभग ढाई घंटे मंत्रणा हुई। बैठक को मंत्रिमंडल विस्तार और बोर्ड-निगमों में चेयरमैनों की नियुक्ति से जोड़कर देखा जा रहा है ।

चंडीगढ़। हरियाणा में मंत्रिमंडल विस्तार और बोर्ड-निगमों के चेयरमैनों की नियुक्ति को लेकर चल रहे कयासों के बीच गत दिवस केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर की मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मुलाकात ने नई चर्चाओं को पंख लगा दिए। मुख्यमंत्री आवास पर दोपहर को करीब ढाई घंटे हुई बैठक में कई मसलों पर चर्चा हुई। हालांकि केंद्रीय राज्य मंत्री ने बैठक में हुई बातचीत का खुलासा नहीं किया, लेकिन इस मुलाकात के गहरे निहितार्थ बताए जा रहे हैं।

दोपहर करीब साढ़े 12 बजे से लेकर ढाई बजे तक दोनों के बीच लंबी वार्ता चली। सूत्रों के मुताबिक मुख्यमंत्री व केंद्रीय राज्य मंत्री के बीच फरीदाबाद नगर निगम को आर्थिक पैकेज दिए जाने पर विस्तृत चर्चा हुई। स्थानीय निकाय विभाग के कई आलाधिकारी भी इस दौरान मुख्यमंत्री निवास में मौजूद थे। सियासी गलियारों में यह भी चर्चा है कि कृष्ण पाल गुर्जर अपने बेटे और फरीदाबाद के वरिष्ठ उपमहापौर देवेंद्र चौधरी को इस बार महापौर का सशक्त उम्मीदवार बनवाना चाहते हैं।

बताया जाता है कि वार्ता के दौरान किसान आंदोलन के मुद्दे पर भी चर्चा हुई। वहीं, मुख्यमंत्री की ओर से गुर्जर को दिल्ली में वरिष्ठ नेताओं के बीच मोर्चा संभालने को भी इशारा किया गया है। इसके साथ ही मंत्रिमंडल विस्तार तथा बोर्ड व निगमों के चेयरमैनों की नियुक्ति पर भी चर्चा होने की अटकलें लगाई जा रही हैं क्योंकि गुर्जर की भाजपा के शीर्ष नेतृत्व में अच्छी खासी पैठ है और वे पिछली दो बार से केंद्र में मंत्री का ओहदा भी संभाल रहे हैं।

यही नहीं, मोदी लहर में प्रदेश से सबसे ज्यादा वोटों से जीतने वाले भी कृष्ण पाल गुर्जर हैं। इसके साथ ही संघर्ष के दौर में गुर्जर की प्रदेश में भाजपा का संगठन मजबूत करने में अहम भूमिका रही है। लिहाजा मुलाकात के कई सियासी मायने निकाले जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने जिलाध्यक्षों से वर्चुअल संवाद कर दिए मनोहर टिप्स

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने भाजपा के वरिष्ठ पदाधिकारियों एवं सभी जिलाध्यक्षों से वर्चुअल संवाद कर सांगठनिक मुद्दों पर चर्चा की। सरकार और संगठन के स्तर पर चल रहे जनहित से जुड़े कार्यों पर चर्चा के साथ ही सीएम ने विभिन्न अंत्योदय योजनाओं को लेकर फीडबैक भी लिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमण धीमा पड़ने के बाद अब संगठन स्तर पर विभिन्न मोर्चों को ज्यादा सक्रिय होने की जरूरत है ताकि जनकल्याणकारी योजनाओं से लोगों को अवगत कराया जा सके।