राकेश टिकैत का बड़ा बयान- केंद्र सरकार बातचीत नहीं, करेगी तो उठाएंगे अगला कदम

 


Kisan Andolan: राकेश टिकैत बोले- केंद्र सरकार बातचीत नहीं, करेगी तो उठाएंगे अगला कदम

 गाजीपुर बॉर्डर से ट्रैक्टर रैली की रिहर्सल पर किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि रिहर्सल इसलिए हो रही है कि 26 तारीख नजदीक है। किसान 26 तारीख को कभी नहीं भूलेगा। हर महीने 26 तारीख आएगी किसान ट्रैक्टरों की रिहर्सल करेगा।

नई दिल्ली/गाजियाबाद, ऑनलाइन डेस्क। तीनों केंद्रीय कृषि कानूनों को पूरी तरह से वापस लेने की मांग को लेकर दिल्ली-एनसीआर के चारों बॉर्डर (शाहजहांपुर, टीकरी, सिंघु और गाजीपुर) पर धरना-प्रदर्शन जारी है। इस बीच किसान आंदोलन को लेकर 7 महीने पूरे होने पर संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर शनिवार को राजभवन पर धरना होगा। इस बीच गाजीपुर बॉर्डर से ट्रैक्टर रैली की रिहर्सल पर किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि रिहर्सल इसलिए हो रही है कि 26 तारीख नजदीक है। किसान 26 तारीख को कभी नहीं भूलेगा। हर महीने 26 तारीख आएगी, किसान ट्रैक्टरों की रिहर्सल करेगा। ट्रैक्टर दिल्ली का रास्ता न भूल जाएं इसलिए इनकी रिहर्सल करनी पड़ती है। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि हमें उम्मीद है कि सरकार बात करेगी। नहीं बातचीत करेगी तो अगला कदम उठाएंगे। ये आंदोलन तब तक जारी रहेगा जब तक भारत सरकार कानून वापस नहीं लेगी और MSP पर कानून नहीं बनाएगी।

वहीं, गाजीपुर बॉर्डर पर मौजूद राकेश टिकैत ने कहा कि शनिवार को ट्रैक्टर रैली से पहले दिल्ली-गाजीपुर बॉर्डर पर तैयारियां चल रही हैं। बीकेयू नेता राकेश टिकैत ने कहा कि शुक्रवार को रिहर्सल होगी। रैली में शामिल होने वाले लोग अगले दो घंटे में यहां इकट्ठा होंगे। इस दौरान हम बैठक भी करेंगे।

उधर, केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि हम विचार और निराकरण करने के लिए तैयार हैं। जब भी किसानों की ओर से प्रस्ताव आएगा तो निश्चित रूप से हम बातचीत के लिए स्वागत करेंगे। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि किसान यूनियन के नेताओं से भारत सरकार 10-11 बार बात कर चुकी है। 50 घंटे से अधिक चर्चा चली है। हमने उनकी परेशानियों के समझने का प्रयत्न किया है। आज भी भारत सरकार पूरा मन रखती है कि जिस प्रावधान पर उन्हें आपत्ति है वे खुले मन से बताएं।

गौरतलब है कि 26 जून यानी शनिवार को गाजीपुर बॉर्डर पर किसान का हल्ला बोल है। इसके लिए पश्चिमी यूपी से हजारों किसान रवाना हुए हैं, जो शनिवार को पहुंचेगे। 26 जून को किसान आंदोलन के सात माह पूरे हो जाएंगे। वहीं, भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने एलान किया कि किसानों को 26 तारीफ भूलने नहीं दी जाएगी।

बताया जा रहा है कि कोरोना की वजह से किसान आंदोलन की धीमी हुई रफ्तार को राकेश टिकैत एक बार फिर धार देने में लग गए हैं। राकेश टिकैत ने कहा कि अभी किसान ट्रैक्टर से दिल्ली आने की रिहर्सल कर रहे हैं। यदि ऐसा ही चलता रहा तो आने वाले तीन वर्षों में किसान इलाज भी करेंगे। राकेश टिकैत ने पिछले दिनों केंद्र सरकार पर तंज कसते हुए कहा था कि अभी कुछ दवाई पश्चिम बंगाल से मिली है और कुछ दवाइयां उत्तर प्रदेश में संपन्न हुए पंचायत चुनाव में मिली है। आगे भी किसान इलाज करेंगे।