तीरंदाजी विश्व कप में झारखंड की दीपिका का जलवा, एक दिन में दो गोल्‍ड मेडल पर साधा निशाना

 


Archery World Cup in Paris, Jharkhand News दीपिका, कोमालिका व अंकिता पोडियम।

 रिकर्व मुकाबले के फाइनल में भारतीय टीम ने मैक्सिको को पांच के मुकाबले एक सेट में हराकर स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया। दीपिका एकमात्र महिला तीरंदाज हैं जिन्होंने टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई किया है।

रांची, सं। पेरिस में चल रहे तीरंदाजी विश्व कप में झारखंड की तीरंदाज दीपिका कुमारी ने अपना जलवा बिखेरा है। दीपिका ने एक दिन में दो गोल्‍ड मेडल पर निशाना साधा है। पहले तो रिकर्व मुकाबले में हमवतन कोमालिका बारी और अंकिता भक्‍त के साथ सोना जीता। उसके बाद उसने अपन‍े पति अतानु दास के साथ मिक्सड डबल्स का खिताब जीता।

दीपिका ने पहले विश्व कप स्टेज तीन तीरंदाजी के रिकर्व मुकाबले में कोमालिका बारी व अंकिता भक्त के साथ स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया। भारतीय टीम ने फाइनल में मैक्सिको को पराजित किया। फाइनल मुकाबले में भारतीय टीम ने मैक्सिको को पांच के मुकाबले एक सेट में हराकर स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया। बता दें कि पेरिस में ही एक पखवाड़े पहले भारतीय महिला रिकर्व टीम ओलंपिक के लिए क्वालीफाइ नहीं कर पाई थी। इसके गम को भुलाते हुए आज ही भारतीय टीम ने स्वर्ण पदक जीतकर अपने इरादे पक्के कर दिए हैं। दीपिका एकमात्र महिला तीरंदाज हैं जिन्होंने टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई किया है।

दीप‍िका, अतानु और बीच में कोच पूर्णिमा महतो।

विश्वकप तीरंदाजी प्रतियोगिता के तीसरे चरण में रविवार का दिन दीपिका के लिए अब तक काफी बेहतर रहा है। दीपिका ने दिन का दूसरा पदक भी अपने नाम किया। मिक्सड डबल्स रिकर्व प्रतियोगिता के फाइनल मुकाबले में दीपिका कुमारी ने अपने पति अतानु दास के साथ मिलकर रविवार को दूसरा स्वर्ण पदक जीता। दीपिका और अतानु की जोड़ी ने नीदरलैंड की जोड़ी को 5-3 सेट के अंतर से हराकर स्वर्ण पदक जीता। एक समय मामला 2-2 सेट की बराबरी पर था लेकिन इसके बाद दीपिका और अतानु ने लगातार तीन सेट जीतकर स्वर्ण पदक पर कब्जा किया।

दीपिका, कोमालिका व अंकिता भक्‍त पोडियम पर (बीच) में।

कोमालिका व अंकिता टाटा आर्चरी अकादमी की है जबकि दीपिका कुमारी टाटा आर्चरी अकादमी से निकलकर ओएनजीसी से जुड़ी है। चौंकाने वाली बात यह है कि इस वर्ष टोक्‍यो में होने वाले ओलंपिक में तीरंदाजी की स्‍पर्द्धा में दीपिका कुमार नहीं खेल रही है। उसने ओलंपिक के लिए क्‍वालीफाइ नहीं किया है। यह शायद पहली बार होगा कि तीरंदाजी की वर्तमान वर्ल्‍ड चैंपियन ओलंपिक में नहीं खेल रही है।