माता वैष्णो देवी के कैश काउंटर में लगी आग, फायर ब्रिगेड और श्राइन बोर्ड के कर्मचारी आग बुझाने में जुटे


फायर ब्रिगेड के जवान और श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड के कर्मचारी संघर्ष कर रहे हैं।

माता वैष्णो देवी भवन स्थित कैश काउंटर में आग लगने की वजह का अभी तक पता नहीं चल पाया है। चूंकि भवन में फायर ब्रिगेड की पोस्ट है इसलिए आग लगने की घटना का पता चलते ही फायर ब्रिगेड के एक दर्जन के करीब जवान आग बुझाने में जुट गए।

जम्मू। विश्व प्रसिद्ध माता वैष्णो देवी के कैश काउंटर में आज यानि मंगलवार शाम को आग लग गई। आग ने देखते ही देखते पूरे कैश काउंटर को अपनी चपेट में ले लिया है। आग पर काबू पाने के लिए फायर ब्रिगेड के जवान और श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड के कर्मचारी संघर्ष कर रहे हैं।  

माता वैष्णो देवी भवन स्थित कैश काउंटर में आग लगने की वजह का अभी तक पता नहीं चल पाया है। अलबत्ता आग पर काबू पाने के पूरे प्रयास जारी हैं। चूंकि भवन में ही फायर ब्रिगेड की पोस्ट भी है, इसलिए तुरंत वहां से आग लगने की घटना का पता चलते ही फायर ब्रिगेड के एक दर्जन के करीब जवान आग बुझाने में जुट गए। उनके साथ श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड के कर्मचारियों सहित भवन में तैनात अन्य सुरक्षाबलों भी काफी सहयोग कर रहे हैं। भवन के कैश काउंटर में लगी की लपटें दूर-दूर से देखी जा रही हैं। फिलहाल यात्रा को बीच में ही रोक दिया गया है।

हालांकि कोरोना की वजह से इस समय यात्रा में काफी कम संख्या में ही श्रद्धालु आ रहे हैं लेकिन फिर भी एहतियात के तौर पर यात्रा को अभी रोक दिया गया है। स्थिति सामान्य होने के उपरांत ही यात्रा को फिर से बहाल कर दिया जाएगा।

यहां यह बता दें कि गत 30 अप्रैल को भी माता वैष्णो देवी मार्ग पर स्थित चरण पादुका मंदिर क्षेत्र में शंभू मार्केट में संदिग्ध परिस्थितियों में आग लग गई थी। इसे बुझाने में फायर ब्रिगेड के जवानों को दो घंटों से अधिक का समय लगा था लेकिन तब तक 15 दुकानें जल चुकी थी।

पहले भी माता वैष्णो देवी भवन मार्ग पर हो चुके हैं अग्निकांड

चरण पादुका क्षेत्र में पहले भी दो बार भयंक अग्निकांड हो चुके हैं। वर्ष 2009 में इसी क्षेत्र के पीपी मार्केट में भयंकर आग लग थी। इस अग्निकांड में 55 दुकानें जल गई थी। वर्ष 2012 में पीपी मार्केट में फिर आगजनी की घटना हुई। इसमें करीब 25 दुकानें जलकर राख हो गई थी।