शादीस्थान' की बिंदास साशा यानी कीर्ति कुल्हरी ने जानिए क्यों कहा- 'हर माता-पिता को यह फ़िल्म दिखानी चाहिए'

 

wp

Kirti Kulhari in Shaadisthan and in Bold Look. Photo- Instagram

राज सिंह चौधरी निर्देशित फ़िल्म में कीर्ति साशा नाम की एक बिंदास और बेबाक म्यूज़िशियन के किरदार में हैं। कीर्ति ने कहा- साशा का किरदार के किरदार की एक बात जो मुझे सबसे ज़्यादा पसंद है वो है कि वो अपनी शर्तों पर अपनी लाइफ़ जीती हैं।

नई दिल्ली। डिज़्नी प्लस हॉटस्टार पर इस शुक्रवार 'शादीस्थान' रिलीज़ हो रही है। यह फ़िल्म एक लड़की की ख़्वाहिशों और पाबंदियों के मुद्दे को उठाती है। शैतान, पिंक और द गर्ल ऑन द ट्रेन जैसी फ़िल्मों के अलावा फोर मोर शॉट्स प्लीज़ और क्रिमिनल जस्टिस बिहाइंड द क्लोज़्ड डोर्स जैसी वेब सीरीज़ में अपनी परफॉर्मेंस से प्रभावित करने वाली अभिनेत्री कीर्ति कुल्हरी फ़िल्म में मुख्य भूमिका में नज़र आएंगी। कीर्ति ने जागरण डॉटकॉम बातचीत में शादीस्थान से जुड़ी अहम जानकारियां साझा कीं। 

राज सिंह चौधरी निर्देशित फ़िल्म में कीर्ति साशा नाम की एक बिंदास और बेबाक म्यूज़िशियन के किरदार में हैं। यह पूछने पर कि उन्होंने साशा का किरदार क्यों चुना? कीर्ति ने कहा- ''साशा का किरदार के किरदार की एक बात जो मुझे सबसे ज़्यादा पसंद है, वो है कि वो अपनी शर्तों पर अपनी लाइफ़ जीती हैं।

उसने अपनी लाइफ़ में बहुत जल्दी सीख लिया था कि अपनी च्वाइसेज़ पर अपनी ज़िंदगी जिऊंगी। मेरे लिए भी फ्रीडम का पैमाना यही है कि क्या आप अपने हिसाब से अपनी ज़िंदगी जी रहे हैं? यह इस फ़िल्म की कहानी की बुनियाद भी है। साशा भी इसी के बारे में बात करती है, जिसने मुझे फ़िल्म की ओर आकर्षित किया।'' 

फ़िल्म अपने किरदारों के ज़रिए हिपोक्रेसी और पूर्वाग्रहों की बात भी करती है। कीर्ति कहती हैं- ''हम लोग किसी के पहनावे और बोलचाल से उन्हें बड़ी जल्दी जज कर लेते हैं। हमारा पूरा समाज और हम ख़ुद भी जजमेंट से भरे हुए हैं। जैसे, निवेदिता का किरदार सोशल सिस्टम की बात करता है, सोसाइटी की बात करता है। वो कहता है कि समाज के चक्रव्यूह से निकलना इतना आसान नहीं है।

इसलिए कुछ लोग हैं, जो अपने लिए लड़ते हैं। दूसरों के लिए लड़ते हैं। वो तय करते हैं कि समाज के चक्रव्यूह में रहना है या अपनी लड़ाई लड़नी है, तो इस केस में साशा दिखती फ्री स्प्रिटेड और बोल्ड है, लेकिन जब बात आयी इस लड़की (अर्शी) के लिए लड़ने की तो वही खड़ी होती है।''

कीर्ति ने बताया कि फ़िल्म की कहानी भले ही राजस्थान में सेट की गयी है, मगर इसका मैसेज पूरे देश के लिए है- ''शादीस्थान की जब हम बात करते हैं तो हम पूरे देश की बात कर रहे हैं। हमारे देश में शादी इतना बड़ा हौवा बना दिया गया है। उसके इर्द-गिर्द ही सारी सोच बना दी जाती है।

इसीलिए फ़िल्म को शादीस्थान नाम दिया गया है। शादी को यहां जिस तरह से अहमियत दी जाती है, तमाशे होते हैं, पैसा खर्च किया जाता है, उसे हाइलाइट करती है। इसीलिए फ़िल्म को शादीस्थान कहा गया है। रेफरेंस के लिए राजस्थान लिया गया है, लेकिन यह पूरे देश की कहानी है।'' 

शादीस्थान की शूटिंग राजस्थान में अजमेर से कुछ दूर विजयनगर में हुई है। कीर्ति ने बताया कि लगभग आधी फ़िल्म वैन में शूट की गयी है, क्योंकि इसमें लगभग 24 घंटे की रोड ट्रिप दिखायी गयी है। मगर, मुख्य हिस्सा  विजयनगर में शूट किया गया है। कुछ दृश्य उदयपुर के भी हैं। कुछ हिस्सा दमन में भी शूट हुआ है। कीर्ति कहती हैं कि ऐसी फ़िल्में करने के लिए कलाकार कई बार समझौते भी करके हैं। शादीस्थान छोटे बजट की फ़िल्म है। सीमित संसाधनों में बनायी गयी है।

फ़िल्म की शूटिंग से जुड़े अनुभव को लेकर कीर्ति ने कहा- ''छोटी फ़िल्मों में जिस तरह संसाधनों को लेकर दिक्कत होती हैं, वो सब तो थी ही, लेकिन एक पैशन भी होता है। ऐसे प्रोजेक्ट से जब लोग जुड़ते हैं तो वो पैसों के लिए नहीं जुड़ते हैं। जुड़ने का कारण पैशन होता है तो एक अलग की क़िस्म की मस्ती होती है। हंसी-खेल में सब कुछ हो जाता है। परेशानियां भी झेल ली जाती हैं।''

कीर्ति चाहती हैं कि अधिक से अधिक लोग इस फ़िल्म को देखें, क्योंकि इसका मैसेज लोगों तक पहुंचना ज़रूरी है- ''मैं चाहती हूं कि बच्चे अपने मम्मी-पापा को बिठाकर दिखायें फ़िल्म। इसमें ऐसी बातें हैं, जो कहनी ज़रूरी हैं। सुननी ज़रूरी हैं। वो कितना समझते हैं, यह उन पर निर्भर करता है।

अपने करियर में किरदारों को चुनने पर कीर्ति ने कहा- ''मुझे किरदार दोहराने में मज़ा नहीं आता है। हर बार कुछ नया करना चाहती हूं। जैसे द गर्ल ऑन द ट्रेन में मेरा जो किरदार है, उसका अलग ही टशन है। साशा का अपना अलग टशन है। इसके बाद कुछ अलग ही दिखेगा।''

कीर्ति फ़िल्मों के साथ वेब सीरीज़ में भी निरंतर बिज़ी हैं। आने वाले प्रोजेक्ट्स के बारे में पूछने पर कीर्ति ने कहा- ''एक सीरीज़ शूट कर रही हूं, जिसका नाम ह्यूमैन है। इसमें शेफ़ाली शाह हैं। विपुल शाह प्रोड्यूस-डायरेक्ट कर रहे हैं मोज़ेज़ सिंह के साथ मिलकर।

यह मेडिकल ड्रामा है। ह्यूमैन ट्रायल्स पर आधारित है। थोड़ा सा शूट बाक़ी है, जो लॉकडाउन हटते ही पूरा करेंगे। इसके अलावा फोर मोर शॉट्स सीज़न 3 वापस शुरू होगा। लॉकडाउन की वजह से बीच में रुक गया था, वो ख़त्म करेंगे। दो शॉर्ट फ़िल्म हैं, जो बिल्कुल तैयार हैं। उनके लिए प्लेटफॉर्म देख रहे हैं।'' 

शादीस्थान के बड़े हिस्से में रोड ट्रिप है और वास्तविक जीवन में भी कीर्ति को ट्रैवलिंग बहुत पसंद है। एक्ट्रेस ने कहा- ''मैं ट्रैवलिंग बहुत करती हूं। पिछले अगस्त से ट्रैवलिंग कर रही हूं। काम भी कर रही हूं। मेरे कोविड-19 टेस्ट भी बहुत निरंतर होते रहते हैं। मुझे ट्रैवलिंग से बहुत हौसला मिलता है। ख़ुशी मिलती है।

इस साल भी जब अप्रैल में लॉकडाउन हुआ तो मैं उत्तराखंड निकल गयी थी। मैं पहाड़ों पर ट्रैकिंग के लिए निकल गयी थी तो एक हफ़्ता तो मेरा नेटवर्क ही नहीं था, प्रकृति में मैं ऐसी गुम हो गयी थी। मुझे अपने अंदर की स्प्रिट को बचाकर रखना है। ट्रैवलिंग मुझे बचाकर रखती है।''