हत्याएं करने के बाद भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है शाहरुख


हाशिम बाबा गिरोह का शार्प शूटर है शाहरुख।

दक्षिणपुरी के अंबेडकर नगर का रहने वाला शाहरुख पहले गैंगस्टर शक्ति नायडू के लिए काम करता था लेकिन फरवरी 2020 में उत्तर प्रदेश पुलिस ने मेरठ में शक्ति नायडू को मार गिराया। इसके बाद नायडू गिरोह के बदमाश हाशिम बाबा गिरोह में शामिल हो गए।

नई दिल्ली,  संवाददाता। जेल में बंद गैंगस्टर हाशिम बाबा गिरोह का शार्प शूटर शाहरुख राजधानी में कई हत्या करने के बाद भी बेखौफ घूम रहा है। तीन माह में यह तीन हत्याएं कर चुका है। उसके बाद भी पुलिस इसे पकड़ नहीं पाई। पिछले साल जेल से जमानत पर आने के बाद से ही वह दिल्ली-एनसीआर में वारदात को अंजाम दे रहा है।

दक्षिणपुरी के अंबेडकर नगर का रहने वाला शाहरुख पहले गैंगस्टर शक्ति नायडू के लिए काम करता था, लेकिन फरवरी 2020 में उत्तर प्रदेश पुलिस ने मेरठ में शक्ति नायडू को मार गिराया। इसके बाद नायडू गिरोह के बदमाश हाशिम बाबा गिरोह में शामिल हो गए। इस गिरोह के शार्प शूटर शाहरुख और डैनी हैं।

हाशिम बाबा कई साल से पुलिस की गिरफ्त से बाहर चल रहा था। पुलिस ने इस पर मकोका की धारा लगाई थी। जुलाई 2020 में हाशिम बाबा ने अपने दो गुर्गो के साथ मिलकर वेलकम इलाके में एक शख्स की गोलियों से भूनकर हत्या की थी। नवंबर 2020 में स्पेशल सेल ने हाशिम को शाहदरा इलाके से मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया था। इसके बाद शाहरुख ही गिरोह को चला रहा है।

शाहरुख ने साथियों के साथ मिलकर 23 मार्च को गोलियां बरसाकर मीट कारोबारी दिलीप की हत्या की थी। इसके बाद शाहरुख ने आठ अप्रैल की रात मंडावली में सलमान उर्फ नन्हे की गोलियां बरसाकर हत्या की थी। 25 को इसने हाशिम बाबा के इशारे पर सुहैल नाम के युवक के साथ मिलकर जाफराबाद में कासिम अंसारी को 20 गोलियां मारकर छलनी कर दिया था।

पुलिस ने इस मामले में सुहैल को तो दबोच लिया, लेकिन शाहरुख उसकी पकड़ से बाहर है। क्राइम ब्रांच ने कुछ ही दिन पहले शाहरुख को हथियार की खेप देने के लिए आए तस्कर साजिद को गिरफ्तार किया था, लेकिन इससे भी शाहरुख का कुछ पता नहीं चला। कुछ दिन पहले इंटरनेट मीडिया पर उसका एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें वह बच्चों के सामने हवाई फायरिंग करता नजर आ रहा है।