नोएडाः जिला अस्पताल में कोरोना का टीका लगवाने के लिए उमड़ी भीड़, लोगों ने किया हंगामा; बुलानी पड़ी पुलिस

 


नोएडा के सेक्टर 30 जिला अस्पताल में कोरोनारोधी टीका लगवाने की जद्दोजहद। फोटो- सौरभ राय

सीएमओ डॉ दीपक ओहरी ने कहा कि कोरोना संक्रमण से लोगों को बचाने के लिए सरकार टीका लगाने पर जोर दे रही है। लोगों से अपील है कि वैक्सीन के लिए परेशान न हो। अपनी बारी आने पर ही वैक्सीन लगवाए। इस दौरान शारीरिक दूरी का पालन भी करें।

 नोएडा । सेक्टर-30 स्थित जिला अस्पताल में शनिवार को कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर सुबह से शाम तक धक्का मुक्की का माहौल रहा। वैक्सीन लगवाने के लिए लोगों को चार से पांच घंटे का इंतजार करना पड़ा। वैक्सीन के लिए जरूरी पंजीकरण से लेकर वैक्सीन लगवाने तक के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी। इस दौरान शारीरिक दूरी की सरेआम अवहेलना हुई, तो हंगामा भी हुआ। अस्पताल में भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस बुलानी पड़ी।

शनिवार को लोग सुबह 8 बजे ही वैक्सीनेशन सेंटर पहुंचने लगे थे। 11 बजे तक वैक्सीनेशन के लिए लोगों की अस्पताल के पंजीकरण काउंटर व प्रवेश गेट के पास तक भीड़ लग गई। दोपहर 12 बजे तक भीड़ बढ़ गई। एक बजे अस्पताल में वैक्सीनेशन के लिए लोगों की लंबी कतारें लगी रहीं। वैक्सीनेशन की होड़ में लोग दो गज की दूरी का पालन करना भूल गए।

स्वास्थ्यकर्मियों व सुरक्षाकर्मियों को लोगों के बीच शारीरिक दूरी बनाए रखने के लिए पूरा दिन मशक्कत करनी पड़ी। लोगों ने स्टाफ के लोगों को पहले व सुरक्षा गार्डों को पैसे देकर वैक्सीन लगाने की बात पर हंगामा भी किया।

इस दौरान मौके पर मौजूद सेक्टर-20 कोतवाली प्रभारी मुनीष प्रताप सिंह ने माइक से अनाउंसमेंट करके लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की। शाम चार बजे के बाद लोगों की संख्या में कमी आई। सुबह से शाम तक कुल 3683 लोगों को वैक्सीन लगाई गई। 18 से 44 की आयु के 2947 व 45 पार आयु के 736 लोगों को वैक्सीन लगाई गई।

नए नियम से हुई असुविधा

नए नियमों के तहत अब वैक्सीन की पहली डोज के लिए पंजीकरण के बाद जरूरी स्लाट की सीमा खत्म कर दी गई है। 18 पार आयु वर्ग के लोगों को सीधा पंजीकरण के बाद कोरोना का टीका लगाया जा रहा है। इसके चलते अस्पताल के वैक्सीनेशन केंद्र पर आम दिनों की अपेक्षा लोगों की भीड़ देखने को मिली। इसका एक प्रमुख कारण शनिवार को साप्ताहिक कर्फ्यू होने के कारण फैक्ट्री और कंपनी का बंद होना भी रहा। अवकाश होने के चलते अधिक लोग वैक्सीन लगवाने के लिए पहुंचे। गौरतलब है कि रविवार को टीकाकरण नहीं होता है।

कोविड अस्पताल के कर्मचारियों की लगाई ड्यूटी

मुख्य चिकित्सा अधीक्षक (सीएमएस) डॉ रेनू अग्रवाल ने बताया लोगों को शारीरिक दूरी बनाए रखने के लिए प्रेरित किया गया। लेकिन लोग नहीं माने। पंजीकरण के लिए 22 कंप्यूटर लगाए गए हैं। अस्पताल में पांच बूथों पर लोगों को वैक्सीन लग रही है। वैक्सीनेशन के लिए नोएडा कोविड अस्पताल के 50 कर्मचारियों की भी मदद ली जा रही है।

सीएमओ व सीएमएस ने बनाई पंजीकरण स्लिप

टीका लगवाने के लिए उमड़ी भीड़ की जानकारी के बाद सीएमओ डॉ दीपक ओहरी भी जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. नीरज त्यागी व डॉ अभिषेक त्रिपाठी के साथ अस्पताल पहुंचे। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए सभी को पंजीकरण स्लिप देने की योजना बाई। सीएमएस व अन्य डॉक्टरों के साथ पंजीकरण स्लिप पर सीरियल नंबर डाला व मुहर लगाई। बाद में इसे लोगों को बांटा। इसके बाद क्रमांक के अनुसार के लोगों को वैक्सीन लगाई गई।

टीका लगवाने पहुंचे सेक्टर-58 निवासी संजय ने बताया कि मैं सुबह साढ़े नौ बजे से लाइन में लगा हूूं। दोपहर के डेढ़ बज चुके हैं लेकिन अबतक वैक्सीन नहीं लगी है। तेज धूप में खड़ा होने से बीमार होने का भी खतरा है।

सेक्टर-45 की रहने वाली विभा ने कहा कि सुबह 9 बजे वैक्सीन लगवाने के लिए अस्पताल आ गई थी। दोपहर दो बज चुके हैं, लेकिन अबतक वैक्सीन नहीं लगी है। धूप में खड़े होने से हलक सूख गया, लेकिन लाइन छोड़कर जाती हूं तो दोबारा से लाइन में लगने का मौका नहीं मिलेगा।सीएमओ डॉ दीपक ओहरी ने इस संबंध में कहा कि कोरोना संक्रमण से लोगों को बचाने के लिए सरकार टीका लगाने पर जोर दे रही है। लोगों से अपील है कि वैक्सीन के लिए परेशान न हो। अपनी बारी आने पर ही वैक्सीन लगवाए। इस दौरान शारीरिक दूरी का पालन भी करें।