एसी-कूलर के शोरूम पर आने लगे उपभोक्ता, जानिये- कितने बढ़े दाम

 


Delhi Unlock News: एसी-कूलर के शोरूम पर आने लगे उपभोक्ता, जानिये- कितने बढ़े दाम

 दिल्ली में लॉकडाउन के चलते दुकानें बंद थीं। ऐसे में जब दरियागंज खान मार्केट ग्रेटर कैलाश व लक्ष्मी नगर समेत दिल्ली के अन्य छोटे-बड़े बाजारों में इलेक्ट्रॉनिक्स की दुकानें खुलीं तो खरीदार भी पहुंचने लगे।

नई दिल्ली, संवाददाता। अनलॉक के साथ ही दिल्ली के एयर कंडीशनर (एसी), फ्रिज, कूलर व पंखा बाजार में दुकानदारों के लिए कारोबार तेज होने की उम्मीद बढ़ गई है। सोमवार को ही इलेक्ट्रॉनिक्स आइटम के शोरूम खुलने के साथ ग्राहक आने लगे हैं। लॉकडाउन के चलते दुकानें बंद थीं। इस कारण इतनी गर्मी व उमस के बाद भी लोग इन उत्पादों को नहीं खरीद पा रहे थे। ऐसे में जब दरियागंज, खान मार्केट, ग्रेटर कैलाश व लक्ष्मी नगर समेत दिल्ली के अन्य छोटे-बड़े बाजारों में इलेक्ट्रॉनिक्स की दुकानें खुलीं तो खरीदार भी पहुंचने लगे।

रेफ्रिजरेशन व एंयरकंडीशनिंग ट्रेडर्स एसोसिएशन के सचिव मनीष सेठ ने कहा कि वे लोग जून में अच्छी बिक्री की उम्मीद कर रहे हैं। लॉकडाउन के चलते लोग खरीदारी नहीं कर पाए। इसके चलते इस बार एसी व फ्रिज की बिक्री का मामला अगस्त तक चल सकता है। सितंबर थोड़ा हल्का रहेगा। उसके बाद अक्टूबर के त्योहारी सीजन के साथ बिक्री फिर से रफ्तार पकड़ लेने की उम्मीद है। वैसे, फ्रिज व एसी के दाम 10 से 15 फीसद बढ़े हुए हैं। एसी की कीमत जो पहले 22,000 रुपये तक थी, वह इस बार 25 से 26 हजार रुपये के आसपास है। इसी तरह फ्रिज के दाम भी बढ़े हुए हैं।

पेट्रोल-डीजल की बिक्री में 50 फीसद का इजाफा

ऑड-इवेन के आधार पर बाजार में कारोबारी गतिविधियां शुरू हो गईं तो सड़क पर वाहनों का दबाव बढ़ गया। इसका सीधा असर पेट्रोल-डीजल की बिक्री पर दिखा। एक ही दिन में पेट्रो पदार्थों की मांग में 50 फीसद का इजाफा देखने को मिला।

दिल्ली पेट्रोल डीलर्स एसोसिएशन के निर्वतमान अध्यक्ष अनिल बिजलानी ने कहा कि लोग घर से बाहर निकलेंगे तो पेट्रो पदार्थो की मांग बढ़नी लाजमी है। दिल्ली में 400 से अधिक पेट्रोल पंप हैं। लाकडाउन में सीमित संख्या में वाहन चल रहे थे। इस कारण यहां बिक्री महज 10 से 20 फीसद थी, जो सोमवार को बढ़कर 50 से 70 फीसद हो गया है।

होटल व गेस्टहाउस के गुलजार होने की आस

लॉकडाउन में होटल व गेस्टहाउस के परिचालन की अनुमति थी, पर कारोबारी गतिविधिया ठप थीं तो पहाड़गंज, करोलबाग, कनॉट प्लेस व एरोसिटी में स्थित होटल व गेस्ट हाउस के अधिकतर कमरे खाली ही थे। अब अनलॉक में इनके गुलजार होने की उम्मीद बढ़ी है।

होटल महासंघ के अध्यक्ष अजय अग्रवाल ने कहा कि इसका असर पहले ही दिन दिखा। कुछ ग्राहक आने लगे हैं। कुछ दिनों में स्थिति में और सुधार की उम्मीद है। हालांकि, जब तक विदेशी पर्यटकों का आना आसान नहीं होता है तब तक दिक्कतें रहेंगी।

चमकेगा सराफा बाजार

पहले दिन दिल्ली के प्रमुख ज्वेलरी बाजार कूचा महाजनी, दरीबा कलां व करोलबाग जैसे बाजार के साथ ही अन्य स्थानों पर स्थित शोरूम में सफाई और गहनों की पैकिंग बदलने का काम चलता रहा। इसके साथ ही सैनिटाइजेशन का अभियान चला, लेकिन ज्वेलर्स को इस शादी के मौसम में अच्छी बिक्री की उम्मीद है।

द बुलियन एंड ज्वेलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष योगेश सिंघल ने कहा कि एक-दो हफ्ते में बाजार के पटरी पर आने की प्रक्रिया शुरू हो जाने की उम्मीद कर रहे हैं। जैसे-जैसे ग्राहकों को पता चलेगा कि दुकानें नियमित रूप से खुलने लगी हैं वैसे-वैसे वे बाजार आना शुरू करेंगे। ज्वेलरी बाजार का कारोबार काफी हद तक उप्र, उत्तराखंड, पंजाब व हरियाणा जैसे राज्यों के खरीदारों पर भी निर्भर है। वहां से जैसे-जैसे आवागमन सामान्य होगा, उसी तरह यहां के ज्वेलरी बाजार में चमक बढ़ेगी।

हालात सुधरने में कम से कम छह महीने का वक्त लगेगा। फिलहाल 10-15 फीसद मजदूर ही काम कर रहे हैं। कच्चे माल की आपूर्ति के लिए हम बाजार पर निर्भर हैं, ऐसे में अब धीरे-धीरे कारखानों में काम रफ्तार पकड़ेगी। पिछले साल के प्रभाव से धीरे धीरे उबर ही रहे थे कि फिर से कोरोना की वजह से लॉकडाउन में सबकुछ मंदा हो गया। देश की अर्थव्यवस्था में सुधार से ही सभी क्षेत्रों में सुधार संभव है। -एमएल अग्रवाल, चेयरमैन, वजीरपुर फैक्ट्री एसोसिएशन

बाजार और अन्य जरूरी चीजें खुलने से उद्योग पटरी पर लौटेगा। ऐसे में अब उम्मीद है कि धीरे-धीरे स्थिति सामान्य होने लगेगी। मांग और आपूर्ति में संतुलन बनेगा, हालांकि मजदूरों की कमी के कारण दिक्कतें तो हो रही हैं, लेकिन इससे हम सभी जल्द उबर जाएंगे। छोटे और मध्यम व्यापारी दोहरी मार झेल चुके हैं, इसलिए उन्हें अधिक समय लग सकता है। -आशीष गर्ग, महामंत्री, नरेला इंडस्टियल कांप्लेक्स वेलफेयर एसोसिएशन