बिहार में अनलॉक से जुड़ी सबसे बड़ी खबर, अब छह जुलाई से खुलने लगेंगे शिक्षण संस्थान ...जानिए गाइडलाइन


बिहार में छह जुलाई से खुलने लगेंगे शिक्षण संस्थान। प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर।

 बिहार में अनलॉक से जुड़ी बड़ी खबर यह है कि आगामी छह जुलाई से क्रमवार शिक्षण संस्थान खुलने लगेंगे। इसके लिए शिक्षण संस्‍थानों को कोरोना से बचाव की गाइडलाइन का पालन करना होगा। शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने इसकी जानकारी दी है।

पटना, ऑनलाइन डेस्‍क।  बिहार में अनलॉक से जुड़ी यह आज की सबसे बड़ी खबर है। बाजार के शर्तों के साथ खुलने के बाद अब शिक्षण संस्थानों  की बारी है। जी हां, आगामी छह जुलाई से बिहार में स्‍कूल-कालेज खुलने आरंभ हो जाएंगे। पहले चरण में कालेज और विश्वविद्यालय (College and University) खोले जाएंगे तो दूसरे चरण में विद्यालयों में 11वीं और 12वीं की कक्षाओं के साथ कोचिंग संस्थान खुलेंगे। तीसरे चरण में मध्‍य व प्राथमिक विद्यालय खुलेंगे। शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी  ने इसकी घोषणा कर दी है। विदित हो कि कोरोनावायरस की दूसरी लहर  के कारण बीते 19 अप्रैल से राज्‍य के शिक्षण संस्‍थान बंद पड़े हैं।

छह जुलाई से समयबद्ध तरीके से खोले जाएंगे स्‍कूल-कालेज

मिली जानकारी के अनुसार कोरोनावायरस संक्रमण की रफ्तार थमने के बाद शिक्षा विभाग ने अब शिक्षण संस्‍थाओं को खेलने की तैयारी शुरू कर दी है। कोविड प्रोटोकाल के तहत सुरक्षा मानकों का पालन कराते हुए शिक्षण संस्थानों को समयबद्ध तरीके से खोला जाएगा। इसकी शुरुआत छह जुलाई से हो जाएगी।

जुलाई में सभी शिक्षण संसथानों के खुल जाने की संभावना

शिक्षण संस्‍थान धीरे-धीरे चरणवार खोले जाएंगे। सबसे पहले छह जुलाई को कालेज व विश्‍वविद्यालय खुलेंगे। विद्यालयों में 12वीं से नौवीं तक की कक्षाएं दूसरे चरण में खोली जाएगी। साथ में कोचिंग संस्‍थान भी खुल जाएंगे। माना जा रहा है कि पहले चरण के कम-से-कम एक सप्‍ताह बाद दूसरे चरण की घोषणा की जा सकती है। अगर सबकुछ ठीक रहा तो उसके एक सप्‍ताह और बाद तीसरे चरण के तहत आठवीं और नीचे की कक्षाएं खोल दी जाएंगी।

कक्षाओं में अल्‍टरनेट दिन बुलाए जाएंगे केवल 50 फीसद बच्‍चेशिक्षा मंत्री विजय कुमार चाैधरी ने बताया कि ऑनलाइन कक्षाएं भी संचालित होती रहेंगी। ऑफलाइन कक्षाएं 50 फीसद विद्यार्थियों के साथ ही संचालित होंगी। विद्यार्थी अल्‍टरनेट दिन बुलाए जाएंगे। केवल वहीं विद्यार्थी ऑफलाइन कक्षाओं में शामिल हो सकेंगे, जिनके अभिभावक इसकी अनुमति देंगे।शिक्षा मंत्री ने बताया कि सरकार शिक्षा को लेकर गंभीर है तो विद्यार्थियों की सुरक्षा से भी समझौता नहीं कर सकती। इसलिए कोरोनावायरस संक्रमण से बचाव की गाइडलाइन के तहत शर्तों के अधीन ही शिक्षण संस्‍थान खोले जाएंगे। इसके तहत मास्‍क लगाना व सैनिटाइजर का उपयोग अनिवार्य रहेगा।नियमित अंतराल पर शिक्षण संस्‍थान के पूरे परिसर को सैनिटाइज कराना होगा। शिक्षामंत्री ने बताया कि शिक्ष संस्‍थानों टीकाकरण केंद्र के रूप में भी काम करेंगे। साथ ही शिक्ष‍क टीकाकरण के महत्‍व से लोगों को अवगत कराएंगे।