इंदौर : एम्फोटेरिसिन बी के इस्तेमाल पर अस्पताल ने लगाई रोक, मरीजों पर हो रहा साइड इफेक्ट

 


कई मरीजों में हल्का बुखार, कंपकंपी और उल्टी जैसी शिकायतें देखने को मिली

सागर जिले के सरकारी बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज (बीएमसी) के म्यूकोर्मिकोसिस वार्ड में 42 मरीज भर्ती थे। इनमें से 27 मरीजों की एम्फोटेरिसिन-बी का इंजेक्शन देने से तबीयत बिगड़ गई जिसके बाद उनमें हल्का बुखार कंपकंपी और उल्टी की शिकायत देखने को मिली

इंदौर, एएनआइ। मध्य प्रदेश के इंदौर के अस्पताल में एम्फोटेरिसिन बी के साइड इफेक्ट्स को देखते हुए मरीजों को इसका इंजेक्शन देने पर रोक लगा दी गई है। एमजीएम कॉलेज के डीन संजय दीक्षित ने बताया कि कुछ रोगियों में इस दवा के इंजेक्शन से साइड इफेक्ट्स के मामले सामने आए थे, जिसके बाद अस्पताल ने इलाज के लिए इंजेक्शन का उपयोग करना बंद कर दिया है।

मालूम हो कि राज्य के सागर जिले के एक अस्पताल में ब्लैक फंगस का इलाज करवा रहे मरीजों को एम्फोटेरिसिन बी का इंजेक्शन दिया गया था। इसके बाद इनमें इंजेक्शन के कुछ प्रतिकूल प्रभाव दिखाई दिए। अस्पताल प्रशासन ने इसे देखते हुए तत्काल प्रभाव से दवा के इस्तेमाल पर रोक लगा दी थी। यहां जिले के सरकारी बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज (बीएमसी) के म्यूकोर्मिकोसिस (mucormycosis) वार्ड में 42 मरीज भर्ती थे। इनमें से 27 मरीजों की एम्फोटेरिसिन-बी का इंजेक्शन देने से तबीयत बिगड़ गई, जिसके बाद उनमें हल्का बुखार, कंपकंपी और उल्टी की शिकायत देखने को मिली, जिसके बाद ब्लैक फंगस के इलाज में अहम दवा एम्फोटेरिसिन-बी के इस्तेमाल पर तत्काल मेडिकल कॉलेज में रोक लगा दी गई।

मप्र के गृह मंत्री का पुलिसकर्मियों को आदेश - टीकाकरण नहीं तो मैदानी पोस्टिंग नहीं

वैक्सीनेशन अभियान को बढ़ावा देने के लिए राज्य में सरकार और प्रशासन ने कड़े कदम उठाना शुरू कर दिया है। प्रदेश के गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने पुलिसकर्मियों को कोरोना टीकाकरण सुनिश्चित कराने के लिए सख्त कदम उठाने के संकेत दिए हैं। उन्होंने कहा है कि टीका नहीं लगवाने वाले पुलिसकर्मियों को मैदानी पदस्थापना नहीं दी जाएगी। इस संबंध में शीघ्र आदेश जारी किए जाएंगे। वहीं, सतना जिले के कलेक्टर अजय कटेसरिया ने कर्मचारियों को सख्त हिदायत दी है कि 30 जून तक सभी शासकीय कर्मचारी वैक्सीनेशन करवा लें। उन्होंने कहा है कि टीकाकरण प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने पर ही जून का वेतन जारी किया जाएगा। इस आदेश के दायरे में संविदा और दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी भी आएंगे। कलेक्टर ने जिला कोषालय अधिकारी को आदेश दिया है कि जून 2021 के वेतन बिल के साथ वैक्सीनेशन प्रमाण पत्र भी लें और संकलित जानकारी उन्हें दी जाए।