ट्रंप प्रशासन के कार्यकाल से शुरू पत्रकारों के खिलाफ गुप्त कानूनी लड़ाई बाइडन प्रशासन में भी जारी

 


ट्रंप प्रशासन के कार्यकाल से शुरू पत्रकारों के खिलाफ गुप्त कानूनी लड़ाई बाइडन प्रशासन में भी जारी


वाशिंगटन, न्यूयार्क टाइम्स। 
अमेरिका का न्याय विभाग न्यूयार्क टाइम्स के चार पत्रकारों की खबरों के स्त्रोत का पता लगाने के लिए गोपनीय रूप से कानूनी लड़ाई लड़ रहा है। पत्रकारों के खिलाफ यह कार्य ट्रंप प्रशासन के कार्यकाल से शुरू हुआ था। इस पर कानूनी लड़ाई अब बाइडन प्रशासन में भी चल रही है।न्यूयार्क टाइम्स के वकील डेविड मेकक्रा ने बताया कि ट्रंप के कार्यकाल में इस मामले की जानकारी किसी को भी नहीं हुई। बाइडन प्रशासन के आने के बाद यह मामला उजागर हुआ। अब बाइडन प्रशासन की भी इन पत्रकारों के खिलाफ कानूनी लड़ाई जारी है।

ट्रंप की सरकार के जाने से कुछ हफ्तों पहले ही न्याय विभाग चार पत्रकारों के ईमेल लाग-इन अधिकार प्राप्त करना चाहता था। उसका मकसद इन चारों पत्रकारों की खबरों के स्त्रोत की गोपनीय रूप से जानकारी प्राप्त करना था।न्यूयार्क टाइम्स के वकील डेविड मेकक्रा ने बताया कि ट्रंप के कार्यकाल में इस मामले की जानकारी किसी को भी नहीं हुई। बाइडन प्रशासन के आने के बाद यह मामला उजागर हुआ। अब बाइडन प्रशासन की भी इन पत्रकारों के खिलाफ कानूनी लड़ाई जारी है। इस मामले में सरकार ने चुप रहने का गैग आर्डर लागू कर दिया था। जिससे टाइम्स के पत्रकार कुछ भी न बोल सकें।

मैकक्रा ने बताया कि यह लड़ाई अब आगे शुरू हो गई है। तीन मार्च के गैग आर्डर को संघीय अदालत ने खारिज कर दिया है।

न्यूयार्क टाइम्स के ईमेल सिस्टम को गूगल कंपनी देखती है। गूगल ने सरकार को ईमेल लाग-इन के अधिकार देने से स्पष्ट रूप से मना कर दिया है। ट्रंप प्रशासन ने इससे पहले चार पत्रकारों के 2017 में फोन डिटेल भी जब्त किए थे।