आसियान सम्मेलन की मेजबानी करेगा चीन, पर्यटन और कोरोना से प्रभावित अन्य आर्थिक गतिविधियों की बहाली पर होगी चर्चा


मुक्त आवागमन के लिए वैक्सीन पासपोर्ट की संभावना पर भी किया जाएगा विचार

महामारी से निपटने के लिए समन्वित रणनीति अपनाने और इन देशों में मुक्त आवागमन के लिए वैक्सीन पासपोर्ट की संभावना पर भी विचार किया जाएगा। चीन के विदेश मंत्री वांग यी सम्मेलन से इतर इन देशों के विदेश मंत्रियों के साथ द्विपक्षीय बैठक भी कर सकते हैं।

बीजिंग, एपी। आसियान देशों में अपना प्रभाव बढ़ाने के लिए अमेरिका से प्रतिस्पर्धा के बीच चीन इस सप्ताह अपने यहां इन देशों के विदेश मंत्रियों का सम्मेलन आयोजित कर रहा है। चीन के सरकारी मीडिया ने बताया कि यह सम्मेलन मंगलवार को देश के चोंगकिंग शहर में आयोजित किया जाएगा। इस दौरान पर्यटन और कोरोना से प्रभावित अन्य आर्थिक गतिविधियों की बहाली पर चर्चा की जाएगी।

महामारी से निपटने के लिए समन्वित रणनीति अपनाने और इन देशों में मुक्त आवागमन के लिए वैक्सीन पासपोर्ट की संभावना पर भी विचार किया जाएगा। चीन के विदेश मंत्री वांग यी सम्मेलन से इतर इन देशों के विदेश मंत्रियों के साथ द्विपक्षीय बैठक भी कर सकते हैं। दक्षिण चीन सागर में परस्पर दावे को लेकर कई देशों के साथ मतभेद के बावजूद चीन आसियान में अपना प्रभाव बढ़ाने की कोशिश कर रहा है।

फिलीपींस एक द्वीप पर अपना दावा कर रहा है और कई बार यहां चीनी नाव की मौजूदगी का विरोध कर चुका है। इसी तरह मलेशिया ने पिछले सप्ताह अपनी वायुसीमा में चीन के 16 सैन्य विमानों के अतिक्रमण पर विरोध जताया था। इसे उसने उड़ान सुरक्षा और राष्ट्रीय संप्रभुता के लिए गंभीर चुनौती बताया था। चीन की आर्थिक और कूटनीतिक ताकत ने इस तरह की चिंताओं को बढ़ाने में मदद की है। हालांकि, कंबोडिया जैसे चीन के सहयोगियों के कारण यह समूह एकीकृत रणनीति अपनाने में असमर्थ रहा है।