सीतापुर द सिटी ऑफ गैंगस्टर' में दिखेंगे लखनऊ, सीतापुर और कानपुर शहर के खूबसूरत नजारे

 


'सीतापुर द सिटी ऑफ गैंगस्टर' में दिखेंगे लखनऊ, सीतापुर और कानपुर शहर के खूबसूरत नजारे

सीतापुर द सिटी आफ़ गैंगस्टर फिल्म की शूटिंग उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के अलावा पड़ोसी जिले सीतापुर मिर्ज़ापुर कानपुर और ओरैया के विभिन्न ख़ूबसूरत लोकेशंस पर हुई है। फिल्म जुलाई में अग्रणी ओटीटी प्लेटफ़ोर्म पर प्रदर्शित होगी।

नई दिल्ली । पिछले दो दशक के दौरान लखनऊ और कानपुर समेत यूपी के तमाम शहरों की खूबसूरती हिंदी फिल्मों में नजर आने लगी है। फिल्म 'यंगिस्तान', 'इश्कजादे', 'रेड' 'शादी में जरूर आना' जैसी दर्जनभर फिल्मों की शूटिंग यूपी के शहरों में हुई है। इसी कड़ी में 'सीतापुर द सिटी आफ़ गैंगस्टर' फिल्म भी रिलीज होने को तैयार है। फिल्म की शूटिंग लखनऊ, सीतापुर, मिर्ज़ापुर, कानपुर और ओरैया के विभिन्न ख़ूबसूरत लोकेशंस पर हुई है। फिल्म के निर्माता रवि सुधा चौधरी हैं और निर्देशन मोबीन वारसी ने किया है।

दरअसल, उत्तर प्रदेश का सीतापुर जिला कभी राजनैतिक षड़यंत्र, गैंगवार और धोखे की कहानियों के लिए कुख्यात था। अब अभिनेता और निर्माता रवि सुधा चौधरी की फिल्म 'सीतापुर द सिटी ऑफ़ गैंगस्टर' में राजनीति, साजिश, बदला, धोखा और गैंगवार की रोमांचक कहानी देखने को मिलेगी। हाल में ही सोशल मीडिया में रिलीज़ फ़िल्म के टीज़र को बहुत पसंद किया जा रहा है। देव सिंह राणा (रवि सुधा चौधरी), जो इस कहानी का मुख्य अभिनेता है, जो कॉलेज अध्यक्ष होता है। कॉलेज में ही एक आपसी मुठभेड़ में उसकी लड़ाई कुछ बाहुबली लोगों से हो जाती है, जो बाद में भीषण रंजिश का रूप ले लेती है। चूंकि वह बाहुबली राजनीतिक पृष्ठभूमि से ताल्लुक रखते हैं, तो अपनी साख के लिए कत्लों का सिलसिला शुरू हो जाता है। और यहीं से देव सिंह राणा की कहानी करवट लेती है। हत्याओं पर हत्याएं और बदले के सिलसिले थमते ही नहीं हैं। रुद्रांश इंटरटेनमेंट के बैनर तले निर्मित 'सीतापुर द सिटी आफ़ गैंगस्टर' के निर्माता रवि सुधा चौधरी हैं। फ़िल्म का निर्देशन मोबीन वारसी ने किया है। फिल्म की शूटिंग लखनऊ, सीतापुर, मिर्ज़ापुर, कानपुर और ओरैया के विभिन्न ख़ूबसूरत लोकेशंस पर हुई है।

फिल्म में मुख्य अभिनता रवि सुधा चौधरी के साथ अपर्णा मल्लिक, आँचल पांडेय, गौरव कुमार, अनिल रस्तोगी, नवल शुक्ला, मिर्ज़ा अज़ार, जब्बार अकरम, जितेंद्र द्विवेदी, शालू सिंह, सलाउद्दीन, उत्कर्ष बाजपेई विभिन्न किरदारों में नजर आएंगे। फ़िल्म के एक्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर शिवा शुक्ला और मोहम्मद सलाउद्दीन हैं। फ़िल्म की कहानी, स्क्रीन प्ले और डायलॉग मोबीन वारसी और रवि सुधा चौधरी ने लिखा है। फ़िल्म का संगीत अली फ़ैसल, नरेंद्र सिंह ने तैयार किया है।

अभिनेता और निर्माता रवि सुधा चौधरी फ़िल्म में अपने किरदार के बारे में बताते हैं कि मैं फ़िल्म में देव सिंह राणा का किरदार निभा रहा हूं। एक कॉलेज के युवा छात्र नेता की शुरू हुई वर्चस्व की लड़ाई शहर के सबसे बड़े बिल्डर के साथ दुश्मनी तक पहुंचती है और फिर जल्द ही इस लड़ाई में राजनैतिक दबंगई और गुटबाज़ी के चलते कभी न ख़त्म होने वाले खूनी संघर्ष का सिलसिला शुरू हो जाता हैं। यह एक ड्रीम किरदार है जिसे कोई अभिनेता अपने कैरियर में निभाना चाहता है। फिल्म जुलाई में अग्रणी ओटीटी प्लेटफ़ोर्म पर प्रदर्शित होगी।

लखनऊ में हुई है इन फिल्मों शूटिंग

  • यंगिस्तान  (इस फिल्म के एक गाने की शूटिंग आंबेडकर पार्क और इमामबाड़े में हुई है)
  • इश्कजादे (परिणीति चोपड़ा अभिनेती फिल्म का गाना 'मैं परेशां' पुराने लखनऊ की गलियों शूट किया गया है।)
  • शादी में जरूर आना (राजकुमार राव और कृति खरबंदा अभिनीत इस हिट फिल्म के आखिरी सीन की शूटिंग हजरतगंज के अशोक मार्ग स्थित बलरामपुर गार्डन में हुई है।)
  • तनु वेड्स मनु और तनु वेड्स मनु रिटर्न्स (इन दोनों फिल्मों की शूटिंग लखनऊ और कानपुर में हुई है। लखनऊ में फिल्म के कुछ हिस्से शूट किए गए हैं।)