नशा साथ में अंधकार, विनाश और तबाही लाता है, ये कूल और स्टाइल स्टेटमेंट नहीं- पीएम मोदी

 


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी । ( फाइल फोटो )

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय दिवस (World Drug Day) पर कहा कि नशीले पदार्थों के खतरे को खत्म करने के लिए जमीनी स्तर पर काम कर रहे लोगों की सराहना की।

नई दिल्ली, पीटीआइ/एएनआइ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय दिवस (World Drug Day) पर कहा कि नशीले पदार्थों के खतरे को खत्म करने के लिए जमीनी स्तर पर काम कर रहे लोगों की सराहना की। साथ ही उन्होंने कहा कि जीवन बचाने के लिए सभी प्रयास महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि नशा अपने साथ अंधकार, विनाश और तबाही लेकर आता है। आइए हम ड्रग्स पर तथ्यों को साझा करने की अपनी प्रतिबद्धता दोहराएं और ड्रग्स मुक्त भारत के अपने दृष्टिकोण को साकार करें। याद रखें- एडिक्शन न तो कूल होता है और न ही स्टाइल स्टेटमेंट। प्रधानमंत्री ने एक पुराने मन की बात एपिसोड को भी साझा किया, जिसमें नशीली दवाओं के खतरे पर काबू पाने के कई पहलू शामिल थे।

वहीं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार सभी प्रकार के नशीले पदार्थों के खिलाफ शून्य-सहिष्णुता नीति के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दोहराती है। उन्होंने भारत में नशीली दवाओं के खतरे को खत्म करने की दिशा में नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) के कर्मियों के प्रयासों की भी सराहना की।

अमित शाह ने ट्वीट करके कहा, 'नशीली दवाओं के दुरुपयोग और अवैध तस्करी के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय दिवस पर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार सभी प्रकार के नशीले पदार्थों के खिलाफ शून्य-सहिष्णुता नीति के प्रति अपनी प्रतिबद्धता दोहराती है। मैं भारत में नशीली दवाओं के खतरे को खत्म करने की दिशा में हमारे नारकोटिक्स ब्यूरो के कर्मियों के प्रयासों की सराहना करता हूं।

बता दें कि संयुक्त राष्ट्र ने नशीली दवाओं के व्यापार और नशीली दवाओं के दुरुपयोग के दुष्प्रभावों का मुकाबला करने के वैश्विक प्रयासों के तालमेल के लिए 26 जून को विश्व ड्रग दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया था। यह दिन नशीली दवाओं की समस्या के बारे में जागरूकता फैलाने और नशीली दवाओं के दुरुपयोग को खत्म करने के उद्देश्य से मनाया जाता है।