डीजल व पेट्रोल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ पेट्रोल पंपों पर विरोध प्रदर्शन करेंगे कांग्रेस कार्यकर्ता


डीजल व पेट्रोल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ पेट्रोल पंपों पर विरोध प्रदर्शन करेंगे कांग्रेस कार्यकर्ता

दिल्ली के कांग्रेस कार्यकर्ता पेट्रोल और डीजल की लगातार बढ़ती कीमतों को वापस लेने की मांग पर शुक्रवार को दिल्ली के पेट्रोल पंपों पर सांकेतिक विरोध प्रदर्शन करेंगे। इसकी अगुवाई खुद दिल्ली के कांग्रेस अध्यक्ष अनिल चौधरी करेंगे।

नई दिल्ली,  संवाददाता। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अनिल चौधरी के नेतृत्व में पार्टी कार्यकर्ता पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों को वापस लेने की मांग पर शुक्रवार को दिल्ली के पेट्रोल पंपों पर सांकेतिक विरोध प्रदर्शन करेंगे। चौधरी का कहना है कि संक्रमण काल में आपदा को अवसर बनाकर केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार लगातार बढ़ते पेट्रोल और डीजल के दामों पर नियंत्रण करने की बजाय टैक्स वसूलकर लोग की जेबों पर डाका डाल रही है। प्रदेश कार्यालय में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रदेश अध्यक्ष अनिल चौधरी, प्रदेश महिला अध्यक्ष अमृता धवन और पूर्व संसदीय सचिव अनिल भारद्वाज ने संयुक्त रूप से कहा कि केंद्र और दिल्ली सरकार की असंवेदनशीलता के कारण पेट्रोल के दाम सेंचुरी लगाने को तैयार हैं। तेल के खेल ने आज हर घर के बजट को बिगाड़ दिया है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 संक्रमण आपदा में सरकारें लोगों को राहत देने की बजाय सरकारी खजाने भरने का काम कर रही हैं और लोगों पर अतिरिक्त बोझ पड़ने के कारण उनकी आजीविका प्रभावित हो रही है।

युवा कांग्रेस ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों के खिलाफ केंद्रीय मंत्रियों को भेजी साइकिल

 भारतीय युवा कांग्रेस ने राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी के नेतृत्व में बृहस्पतिवार को पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के खिलाफ आक्रोश व्यक्त किया गया। इस अवसर पर युवा कांग्रेस के साथियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी को कुरियर के माध्यम से साइकिल भेंट भेजी गई। इसके साथ ही युवा कांग्रेस के साथियों ने केंद्र सरकार को आइना भी दिखाया ताकि सरकार अपनी नींद से जागे और अपने वायदों को याद करे जो उन्होंने देश की जनता के साथ किए थे। श्रीनिवास ने कहा कि ऐसी विषम परिस्थिति में दुनिया की किसी भी सरकार ने अपनी जनता पर इतने अत्याचार नहीं किए होंगे, जितने मोदी सरकार कर रही है। पिछले पांच महीनों में 43 बार पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ाए गए हैं। भाजपा जब विपक्ष में थी तो पेट्रोल डीजल की पांच रुपए की वृद्धि पर सड़कों पर प्रदर्शन करती हुई दिखती थी पर आज जब चौतरफा महंगाई की मार है तो सब मौन है, आज युवा कांग्रेस ने उन्हें नींद से जगाने का प्रयास किया है।