राष्ट्रपति के कानपुर आगमन के दौरान जाम में फंसी महिला उद्यमी ने तोड़ा दम, पुलिस कमिश्नर ने मांगी माफी

 


वंदना मिश्रा की फाइल फोटो और उनके अंतिम संस्कार में माफी मांगने के लिए पहुंचे कानपुर पुलिस कमिश्नर असीम अरुण।

कानपुर में महिला उद्यमिता को बढ़ावा देने में इंडियन इंडस्ट्री एसोसिएशन (आइआइए) महिला विंग की अध्यक्ष वंदना मिश्रा ने अग्रणी भूमिका अदा की है। वे करीब सात साल तक भारतीय महिला उद्यमी परिषद की महामंत्री भी रहीं।

कानपुर,  राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द के शहर आगमन से कुछ देर पूर्व गोविंदनगर पुल पर रोके गए ट्रैफिक में आइआइए महिला विंग की अध्यक्ष वंदना मिश्रा 45 मिनट तक फंसी रहीं। वे इलाज कराने के लिए रीजेंसी अस्पताल जा रही थीं, लेकिन ट्रैफिक में फंसे होने के कारण उनकी स्थिति बिगड़ती चली गई। जाम खुलने के बाद करीब पौन घंटे देरी से वे अस्पताल पहुंच सकीं, लेकिन वहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। राष्ट्रपति की पत्नी सविता कोविन्द को जब इस घटना की जानकारी हुई तो उन्हें काफी दुख हुआ। उन्होंने घटना की चर्चा की तो राष्ट्रपति ने भी शोक व्यक्त किया। उन्होंने तत्काल कानपुर जिलाधिकारी (Kanpur DM) और पुलिस कमिश्नर (Police Commissioner Aseem Arun) को शोकाकुल परिवार को ढांढ़स बंधाने के निर्देश दिए। इस पर जिलाधिकारी आलोक तिवारी ने दिवंगत वंदना मिश्रा के पति शरद मिश्र तक राष्ट्रपति का शोक संदेश पहुंचाया। 

कौन हैं वंदना मिश्रा: कानपुर में महिला उद्यमिता को बढ़ावा देने में इंडियन इंडस्ट्री एसोसिएशन (आइआइए) महिला विंग की अध्यक्ष वंदना मिश्रा ने अग्रणी भूमिका अदा की है। वे करीब सात साल तक भारतीय महिला उद्यमी परिषद की महामंत्री भी रहीं। बता दें कि उनके दो बेटे हैं, जिनकी अभी शादी भी नहीं हुई है।

कोरोना की दे चुकी थीं मात: वंदना मिश्रा दो माह पूर्व कोरोना संक्रमित हुई थीं और तेजी से रिकवरी करते हुए वे ठीक भी हो गई थीं। इसके बाद उन्होंने कई कार्यक्रमों में शिरकत भी की। अचानक तीन दिन पहले उन्हें घबराहट व बेचैनी की शिकायत थी। इस पर हृदय की जांच कराई गई जो कि सामान्य निकली थी। शुक्रवार को दोपहर में पति व अपने बेटों के साथ रीजेंसी अस्पताल में दिखाने गई थीं तब वह ठीक थीं। घर आने के कुछ देर बाद शाम पांच बजे उनकी तबीयत पुन: बिगड़ने लगी तो स्वजन उन्हें सर्वोदय नगर स्थित रीजेंसी अस्पताल ले गए। लेकिन गोविंदनगर पुल पर वे सभी पौन घंटा जाम में फंसे रहे। अस्पताल पहुंचने के बाद डाक्टरों ने कहा कि समय पर वे अस्पताल पहुंच जातीं तो शायद बचाया जा सकता था। वंदना मिश्रा के निधन से कानपुर के उद्यमियों ने गहरा शोक जताया है।

पुलिस आयुक्त ने मांगी माफी: महिला उद्यमी वंदना मिश्रा की मौत होने के बाद पुलिस आयुक्त असीम अरुण शनिवार को भगवतदास घाट पहुंचे। यहां उन्होंने शोकाकुल परिवार से माफी मांगी। पुलिस कमिश्नर ने इंटरनेट मीडिया पर इस घटना पर व्यक्तिगत दुख जताया। साथ ही शहर की यातायात व्यवस्था को और व्यवस्थित किए जाने के लिए शहरवासियों को आश्वस्त किया।