दिल्ली में शराब की होम डिलीवरी चाहते हैं तो हो जाएं सावधान, वरना लग सकता है चूना; पुलिस ने किया अलर्ट


दिल्ली में शराब की होम डिलीवरी को लेकर पुलिस ने किया सचेत

दिल्ली में शराब की होम डिलीवरी के नाम पर साइबर ठगी की आंशका बढ़ गई है। इसे देखते हुए दिल्ली पुलिस ने लाेगों को सचेत किया है। साइबर सेल के डीसीपी अन्येष राय ने कहा कि जब भी इस तरह का अवसर आता है तब ठग सक्रिय हो जाते हैं।

नई दिल्ली । लाकडाउन में ठेका और बार बंद रहने से शराब के शौकीनों को मायूसी हाथ लग रही है। लोगों की परेशानी को देखते हुए दिल्ली सरकार ने इसकी होम डिलीवरी सुविधा की घोषणा तो कर दी, लेकिन इस व्यवस्था के लिए अभी किसी भी ठेका मालिक के पास लाइसेंस नहीं है। न ही आबकारी विभाग ने अभी तक कोई ऐसा अधिकृत एप ही बनाया है जिसपर लोग आवेदन कर सकें। ऐसे में शराब की होम डिलीवरी के नाम पर साइबर ठगी की आंशका बढ़ गई है। इसे देखते हुए दिल्ली पुलिस ने लाेगों को सचेत किया है। साइबर सेल के डीसीपी अन्येष राय ने कहा कि जब भी इस तरह का अवसर आता है तब ठग सक्रिय हो जाते हैं। फर्जी एप बनाने में अधिकतम दो घंटे का वक्त लगता है।

इसके बाद वे उसपर मोबाइल फोन नंबर डालकर इंटरनेट मीडिया पर पोस्ट कर देते हैं। विभिन्न वाट्सएप ग्रुप में भेजते हैं। कम जानकार लोग ऐसे फर्जी एप देख कर उसपर आवेदन कर देते हैं और वे ठगों के शिकार बन जाते हैं। ऐसे में बेहतर होगा कि जब सरकार इसके लिए अधिकृत एप जारी करें तभी उसपर आवदेन करें, जिसमें ठगी की संभावना न रहे। जानकारों का कहना है कि सरकार का अधिकृत एप आने में छह माह का समय लग सकता है।

अन्येष राय ने लोगों से अपील की है कि वे फर्जी एप पर आवेदन करने से बचे। अगर ठग आनलाइन पैसा स्थानांतरित करने को कहे तो पहले यह पता कर लें कि खाता कहां की है। आईएफसी कोड कहां का है। अगर वह दिल्ली का न हो तो पैसा न भेजे। इसकी शिकायत तुरंत दिल्ली पुलिस से करें।

दिल्ली पुलिस प्रवक्ता चिन्मय बिश्वाल ने बताया कि शराब की होम डिलीवरी मामले में फिलहाल ठगी की शिकायत नहीं मिली है। इस स्थिति में लोग कोविड हेल्पलाइन नंबर 23469900 पर शिकायत कर सकते हैं। इसके अलावा दिल्ली पुलिस कंट्रोल रूम नंबर 112 अथवा जिले अथवा यूनिटों में भी उनके अधिकृत नंबरों पर शिकायत कर सकते हैं। जिसपर गंभीरता से जांच कर त्वरित कार्रवाई की जाती है।