रागी में छिपा है सेहत का राग, सेवन से कोरोना मरीजों को होगा खास फायदा तेजी से बढ़ेगी इम्यूनिटी


मधु रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले स्वादिष्ट व सेहत से भरपूर व्यंजन तैयार करती हैं।

मधु के द्वारा बनाए गए स्वाद और इम्युनिटी से भरपूर रागी के लड्डू केक इडली वड़ा कांजी आदि का सेवन कर कोरोना मरीज भी अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ा रहे हैं। इतना ही नहीं उनके हाथों के थेपले लड्डू और अचार विदेश जाने वाले छात्र अपने साथ लेकर जाते हैं।

नई दिल्ली , बचपन में मां जब रागी के आटे का हलवा बनातीं तो पूरे घर में उसकी खुशबू फैल जाती थी। हलवा, लड्डू हो या रोटी मां के हाथों बना रागी का हर स्वाद आज भी जुबान पर है। आप में से ज्यादातर लोग रागी के इन स्वादों से परिचित होंगे और उसे खाने का मन भी होता होगा। नानी, दादी व मां के हाथों के उसी पारंपरिक स्वाद को गुरुग्राम निवासी होम शेफ मधु अग्रवाल लोगों तक पहुंचा रही हैं। उनके द्वारा बनाए गए स्वाद और इम्युनिटी से भरपूर रागी के लड्डू, केक, इडली वड़ा, कांजी आदि का सेवन कर कोरोना मरीज भी अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ा रहे हैं। इतना ही नहीं, उनके हाथों के थेपले, लड्डू और अचार विदेश जाने वाले छात्र अपने साथ लेकर जाते हैं। मधु कहती हैं आजकल लोगों को सादा, सात्विक और पौष्टिक भोजन चाहिए। इसलिए इन दिनों पारंपरिक भोजन को अपनी पाक कला से नया आयाम दे रही हूं। तो आईए जानें कैसे मधु, रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले स्वादिष्ट व सेहत से भरपूर व्यंजन तैयार करती हैं।

पाचन ठीक करने के लिए पिएं कांजी

मधु कोरोना मरीजों के लिए कांजी बनाती हैं। हालांकि जरूरी नहीं है कि सिर्फ कोरोना मरीज इसका सेवन करें, स्वादिष्ट और सेहतमंद है तो कोई भी पी सकता है। यह उत्तर प्रदेश का पारंपरिक पेय है, जिसे काले गाजर व चुकंदर से तैयार किया जाता है। इसको पीने से शरीर का पाचन ठीक होता है। गर्मी में गाजर न मिले तो चुकंदर का उपयोग भी कर सकते हैं। गाजर या चुकंदर को काटकर पानी में डाल दें। उसमें थोड़ा राई और सरसों का पेस्ट मिलाकर दो-तीन दिन तक धूप में रख छोड़ दें। उसके बाद पानी को छानकर एक गिलास में डालें और स्वाद लीजिए।

गुड़ से तैयार रागी के लड्डू

रागी का लड्डू जितना स्वादिष्ट होता है उतना ही सेहतमंद भी है। इसमें प्रोटीन और खनिज काफी मात्रा में होता है। इसे बनाने के लिए सबसे पहले एक कढ़ाई में घी डालें। फिर उसमें रागी का आटा डालकर हल्की आंच पर अच्छी तरह भून लें। अच्छे से भुन जाने के बाद उसमें काजू, बादाम, किशमिश, अखरोट मिलाएं। फिर कद्दू और सूरजमुखी के बीज को फ्राई करके उसमें मिला दें। अब स्वाद अनुसार गुड़ डालें। जरूरत लगे तो आधा कप पानी डालें उसके बाद पेस्ट को निकालकर लड्डू का आकार दें। इन लड्डुओं को दो से तीन हफ्ते तक रखकर खा सकते हैं।

केक देखते ही दिल हो जाएगा खुश

कोरोना मरीजों के स्वाद और सेहत का ध्यान रखते हुए मधु हफ्ते में एक दिन उन्हेंं मीठा और सेहतमंद होल व्हीट बनाना वालनट जैगरी केक भी परोसती हैं। इस केक को देखने भर से बीमार मरीजों का दिल खुश हो जाता है। इसे बनाने के लिए सबसे पहले आटा और केले को अच्छी तरह मिला लें। फिर उसके थोड़ा बेकिंग पाउडर, अखरोट और गुड़ का पानी मिलाएं। अब तैयार पेस्ट को 30 से 40 मिनट तक ओवन में बेक कर लें और बस तैयार हो गया बनाना केक। बच्चे भी इस केक को बड़े चाव से खाते हैं तो जब भी कुछ मीठा खाने का मन करे घर में झटपट इसे बनाकर मीठे की भूख को शांत कर सकते हैं।