मोबाइल टावर की चिप व मशीनें चुराने वाले तीन गिरफ्तार

 


पुलिस ने मोबाइल टावर के महंगे चिप व मशीनें चोरी करने वाले तीन चोरों को गिरफ्तार किया है।

तरुण कुछ समय पहले तक मोबाइल टावर कंपनी में टेक्नीशियन था। उसे उन मोबाइल टावर की लोकेशन की जानकारी थी जहां ज्यादा सुरक्षा नहीं होती थी। वह चुराया गया सामान मेहराजुद्दीन के जरिये मेरठ निवासी उसके भाई शाहरुख को बेचता था।

नई दिल्ली, संवाददाता। संगम विहार थाना पुलिस ने मोबाइल टावर के महंगे चिप व मशीनें चोरी करने वाले तीन चोरों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने इनकी गिरफ्तारी से द्वारका और गुरुग्राम में दर्ज दो मामले सुलझाने का दावा किया है। आरोपितों की पहचान मीठापुर निवासी तरुण कुमार उर्फ लक्की, हरकेश नगर निवासी दिलशाद अली उर्फ भूरी और मेरठ निवासी शाहरूख के रूप में हुई है। इनका चौथा साथी मेहराजुद्दीन फरार है। इन पर 30 से अधिक मामले दर्ज हैं।

मोबाइल टावर से चिप चोरी की मिली शिकायत

दक्षिणी जिले के पुलिस उपायुक्त अतुल कुमार ठाकुर ने बताया कि पुलिस को तीन जून को इंडस टावर कंपनी के सिक्योरिटी अफसर ने आई ब्लाक संगम विहार के मोबाइल टावर से चिप चोरी की शिकायत दी थी। सीसीटीवी फुटेज में एक संदिग्ध स्कूटी दिखी तो पुलिस उसके रजिस्टर्ड पते पर पहुंची। वहां से तरुण का मोबाइल नंबर मिला। मोबाइल लोकेशन के आधार पर पुलिस ने छह जून को द्वारका से तरुण व दिलशाद को गिरफ्तार कर एमटीएनएल द्वारका स्थित टावर से चुराया गया एमपीयू बरामद कर लिया।

मोबाइल टावर कंपनी में था टेक्नीशियन

तरुण कुछ समय पहले तक मोबाइल टावर कंपनी में टेक्नीशियन था। उसे उन मोबाइल टावर की लोकेशन की जानकारी थी जहां ज्यादा सुरक्षा नहीं होती थी। वह चुराया गया सामान मेहराजुद्दीन के जरिये मेरठ निवासी उसके भाई शाहरुख को बेचता था।

इन इलाकों में की थी चोरी

पुलिस ने मेरठ के फिटकरी गांव में छापा मार शाहरुख को गिरफ्तार कर एक मेन प्रोसेसिंग यूनिट बरामद कर लिया। इन लोगों ने संगम विहार, गोविंदपुरी, कालकाजी, ओखला, करोल बाग, मायापुरी, बुराड़ी, महिपालपुर, गुरुग्राम, नोएडा, गाजियाबाद और रोहतक के टावरों से चिप और मशीनें चोरी की है।