बड़ी साजिश की फिराक में पाक, LoC से सटे गांव खाली करा रहा, सेना भी अलर्ट

 


तोली पीर इलाके के नजदीकी गांव से गांववासियों को जबरन निकाल कर गांव को खाली करवाया गया है।(फाइल फोटो)

 पाकिस्तानी सैनिकों की इस कार्रवाई को देख भारतीय जवानों ने भी अपनी चौकसी बढ़ा दी है। नियंत्रण रेखा की सुरक्षा में तैनात जवानों को दिन-रात सतर्क रहने की हिदायत के साथ दुश्कन की हर नापाक हरकत का कड़ा जवाब देने के निर्देश दिए गए हैं।

पुंछ, संवाद सहयोगी : पाकिस्तान भारत के खिलाफ फिर किसी बड़ी साजिश को अंजाम देने की फिराक में है। वह पुंछ जिले की सीमा के उस पार बड़ी संख्या में हथियार व सेना के अतिरिक्त जवानों को तैनात कर रहा है। वहां के गांवों को खाली कराया जा रहा है। पाकिस्तानी सैनिक की हरकत उनके नापाक इरादे की ओर संकेत कर रही है।

वहीं, सरहद पार पाकिस्तानी सैनिकों की इस कार्रवाई को देख सीमा की सुरक्षा में तैनात भारतीय जवानों ने भी अपनी चौकसी बढ़ा दी है। नियंत्रण रेखा की सुरक्षा में तैनात जवानों को दिन-रात सतर्क रहने की हिदायत के साथ दुश्कन की हर नापाक हरकत का कड़ा जवाब देने के निर्देश दिए गए हैं।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, पुंछ जिले के खड़ी करमाड़ा और देगवार सेक्टर के उस पार पाकिस्तानी इलाके के तोली पीर में कई दिन से पाकिस्तानी सैनिकों की तरफ से काफी हलचल देखी जा रही है। वह नियंत्रण रेखा के नजदीक सेना का जमावड़ा और आधुनिक हथियार इकट्ठे कर रहा है। इस काम में हेलिकॉप्टर और बुलेटप्रूफ गाड़ियों की सहायता ली जा रही है।

वहीं, तोली पीर इलाके के नजदीकी गांव से गांववासियों को जबरन निकाल कर गांव को खाली करवाया गया है। गांववासियों को तहसील बाग में भेज दिया गया है। तोली पीर इलाके में पाकिस्तानी सैनिक हरकत में हैं।

जानकारी के अनुसार, हाल के दिनों में स्थानीय लोगों को बताया गया था कि पाकिस्तानी सेना और अन्य किसी मित्र देश की सेना का साझा युद्धाभ्यास होगा, लेकिन कुछ दिनों के बाद इलाके को सैन्य छावनी में बदल दिया गया और लोगों को इलाका खाली करने के आदेश जारी कर दिए गए। जो लोग वहां से नहीं निकले, उन्हें जबरन निकाल कर तहसील बाग में भेज दिया गया। जब तक नए आदेश नहीं जारी होते, तब तक लोगों को तोली पीर इलाके में जाने की इजाजत नहीं है।

बताया जा रहा है कि पाकिस्तानी सैनिकों के साथ चीन की सेना भी तैनात है, जो किसी बड़ी साजिश को अंजाम देने की फिराक में है। सीमा पर बढ़ती हलचल को देखकर भारतीय सेना के जवानों ने भी चौकसी पहले से अधिक बढ़ा दी है।

आपको जानकारी हो कि इसी साल 25 फरवरी को भारत और पाकिस्तान के बीच डीजीएमओ स्तर पर बातचीत हुई थी, जिसमें संघर्ष विराम पर हुए समझौते पर अमल करने की सहमति बनी थी। तब से अब तक एलओसी पर खामोशी है। हालांकि, अंतरराष्ट्रीय सीमा पर दो बार फायरिंग हो चुकी है। अब पाकिस्तान की संदिग्ध हरकत से आशंका है कि एलओसी पर फिर तनाव बढ़ सकता है।