गाजियाबाद जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव में RLD ने बढ़ाई भाजपा की मुश्किल, गेंद मायावती के पाले में

 


भाजपा प्रत्याशी ममता त्यागी और सपा उम्मीदवार नसीम बेगम चौधरी की फाइल फोटोः जागरण

 भाजपाइयों को उम्मीद है कि पूर्व में गठबंधन का कड़वा अनुभव देख चुकी बसपा अंत में उसे समर्थन दे देगी वहीं बसपा से निष्कासित विधायक असलम चौधरी अपनी ही पार्टी में सेंध लगाने की जी तोड़ कोशिश कर रहे हैं।

गाजियाबाद । जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी कब्जाने की कोशिश में जुटी भाजपा की राह राष्ट्रीय लोकदल और समाजवादी पार्टी का गठबंधन बनने के बाद और मुश्किल हो गई है। चौदह सदस्यीय जिला पंचायत में वर्तमान में भाजपा के पास दो जीते व एक समर्थित सहित मात्र तीन सदस्य हैं जबकि सपा- रालोद गठबंधन के छह सदस्य हो गए हैं। जीत के लिए जरूरी आठ सदस्यों में से सपा-रालोद गठबंधन को अब मात्र दो सदस्यों की जरूरत है जबकि भाजपा को पांच सदस्य चाहिए।

भाजपाइयों को उम्मीद है कि पूर्व में गठबंधन का कड़वा अनुभव देख चुकी बसपा अंत में उसे समर्थन दे देगी वहीं बसपा से निष्कासित विधायक असलम चौधरी अपनी ही पार्टी में सेंध लगाने की जी तोड़ कोशिश कर रहे हैं।

सबसे अधिक सदस्य, पर बसपा ने नहीं खोले पत्ते

भाजपा ने पूर्व जिलाध्यक्ष बसंत त्यागी की पत्नी ममता त्यागी पर दाव खेला है, जबकि सपा- रालोद गठबंधन ने बसपा विधायक असलम चौधरी की पत्नी की नसीम बेगम चौधरी को उम्मीदवार बनाया है। दोनों दलों के प्रत्याशी घोषित होने के बाद अब बसपा के पांच सदस्यों पर ही अब चुनाव टिका है।

वर्ष 2017 का विधानसभा चुनाव बसपा और सपा ने साथ मिलकर लड़ा, लेकिन न तो चुनाव बाद परिणाम बेहतर आए और न ही कार्यकर्ताओं के मन मिले। अब सपा ने जिस प्रकार से बसपा के निष्कासित विधायक असलम चौधरी की पत्नी नसीम पर दाव खेला है इससे कहीं न कहीं बसपाई खेमा आहत है। भाजपा इसी का लाभ उठाने की जुगत में है।

भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष और जिला पंचायत सदस्य ममता त्यागी के पति बसंत त्यागी दावे के साथ कह रहे हैं कि चुनाव में बसपा के सभी पांच सदस्य उनके साथ रहेंगे। जबकि बसपा ने फिलहाल इस मामले पर अभी तक पूरी तरह से चुप्पी साध ली है।

जिला पंचायत में दलों की स्थिति

भाजपा के पास सदस्यों की संख्या तीन

अंशु - भाजपा

ममता- भाजपा

प्रमिला- भाजपा समर्थित निर्दलीय

बसपा के टिकट पर पांच सदस्य जीते

दया

अमरपाल

प्रिया

आसिफा

शोकेंद्र

रालोद- तीन

अनिल

अमित

बबली

सपा- तीन

मीनू

नसीम

रजनी

गाजियाबाद के सपा जिलाध्यक्ष राशिद मलिक ने दावा किया कि जिला पंचायत अध्यक्ष सपा- रालोद गठबंधन का ही बनेगा। हमारी रणनीति पूरी तरह से तैयार है। हमारे पास बहुमत से कहीं ज्यादा समर्थन है।

भाजपा जिलाध्यक्ष दिनेश सिंघल का कहना है कि जिला पंचायत अध्यक्ष पहले भी भाजपा का था। इस बार भी भाजपा ही चुनाव जीतेगी। हमारी रणनीति तैयार है समय पर पत्ते खोलेंगे।

वहीं, बहुजन समाज पार्टी के जिलाध्यक्ष वीरेंद्र जाटव का कहना है कि हमने संगठन को यहां से रिपोर्ट बनाकर भेज दी है। बसपा के सभी सदस्य एकजुट हैं। संगठन से मिले निर्देश के अनुसार ही काम करेंगे।

बता दें कि जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए तिथि की घोषणा अभी तक नहीं हुई है लेकिन सभी दल अपनी-अपनी तैयारियों में लगे हुए हैं।