डेटिंग एप पर दोस्ती के बाद महिला ने ठग लिए साढ़े 13 लाख रुपये, 3 आरोपित गिरफ्तार

 


डेटिंग एप पर दोस्ती के बाद महिला ने ठग लिए साढ़े 13 लाख रुपये, 3 आरोपित गिरफ्तार

डेटिंग एप पर महिला के झांसे में आकर जटोबा बीज का कारोबार शुरू करना एक शख्स को महंगा पड़ गया। महिला ने अपने दो अन्य साथियों के साथ मिलकर शख्स से 13 लाख 50 हजार रुपये ठग लिए।

नई दिल्ली, संवाददाता। डेटिंग एप पर महिला के झांसे में आकर जटोबा बीज का कारोबार शुरू करना एक शख्स को महंगा पड़ गया। महिला ने अपने दो अन्य साथियों के साथ मिलकर शख्स से 13 लाख 50 हजार रुपये ठग लिए। मामले में ख्याला थाना पुलिस ने बेंगलुरु से तीनों आरोपितों को दबोच लिया है। आरोपितों की पहचान पेरूमल स्टेला (25), चिंगेरम कालू उर्फ नैंसी (27) व अकीनोला तिमोथी के रूप में हुई है। पुलिस को आरोपितों के पास से तीन लैपटाप, 21 मोबाइल फोन, तीन इंटरनेट राउटर, 24 मोबाइल सिम कार्ड व एक डोंगल बरामद हुआ है।

पश्चिमी जिला पुलिस उपायुक्त उर्विजा गोयल ने बताया कि शिकायत के दौरान ख्याला थाने में पीड़ित ने कहा कि मार्च 2021 में हिंग नामक डेटिंग एप पर उनकी एक महिला से बात हुई। महिला ने अपना नाम रिओना काहिल बताया और कहा कि वह अमेरिका के टेक्सास प्रांत के आस्टिन शहर में रहती है। एक हफ्ते चैटिंग के बाद वे दोस्त बन गए और उनकी बातचीत वाट्सएप पर होने लगी। महिला ने बताया कि वह फार्मास्यूटिकल रिसर्च एंड मैन्युफैक्चर्स आफ अमेरिका के लिए काम करती हैं।

महिला ने उन्हें कारोबार के लिए एक सुझाव दिया कि उनकी कंपनी भारत से जटोबा बीज का एक साथी के माध्यम से आयात करती है। यह साथी पहले इसी कंपनी में कार्यरत थी। महिला ने कहा कि उनकी दोस्त जटोबा बीज का बंगलुरू में कारोबार करती है। बीज के 100 ग्राम के पैकेट के लिए 300 से 350 अमेरिकी डालर का भुगतान करती है और कंपनी को आगे वही बीज 500 अमेरिकी डालर में निर्यात करती है। अगर पीड़ित चाहे तो वह अपनी कंपनी के समक्ष उनका नाम बतौर जटोबा बीजों के सप्लायर के रूप में रख सकती है। अगर कंपनी मान गई तो उन्हें अच्छा मुनाफा होगा।इसके बाद रिओना काहिल ने पीड़ित को अपनी एक सहेली अंकिता का मोबाइल नंबर दिया। अंकिता ने पीड़ित को बताया कि वह 100 ग्राम जटोबा बीज का पैकेट 300 अमेरिकी डालर में खरीदती है। मुनाफे का सौदा समझकर पीड़ित ने महिला की बातों में आकर कारोबार शुरू करने की बात को स्वीकार कर लिया। इसके बाद पीड़ित के पास कंपनी के मालिक डा. मार्शल फ्लिंट नामक शख्स का फोन आया।

लालच में आकर पीड़ित ने 60 जटोबा बीज के पैकेट के लिए अंकिता द्वारा उपलब्ध कराए गए बैंक खाते में 13 लाख 50 हजार रुपये जमा करा दिए। बाद में ठगी का एहसास होने पर पीड़ित ने मामले की जानकारी पुलिस को दी। मामले में टैक्निकल सर्विलांस की मदद से पुलिस को आरोपितों के बारे में पता चला। आरोपितों को दबोचने के लिए एसआइ नवीन के नेतृत्व में पुलिस टीम बंगलुरू गई। जहां पता चला कि तीनों आरोपितों अलग-अलग जगह रहते हैं। चार दिन के प्रयास के बाद पुलिस दो जगहों पर छापेमारी कर आरोपितों तक पहुंची।