सिंगरौली में 15 वर्षीय छात्र लोगों की निजी जानकारी को हैक कर उन्हें करता था ब्लैकमेल

 

सिंगरौली, एएनआइ। मध्य प्रदेश की सिंगरौली पुलिस ने एक 10वीं में पढ़ने वाले 15 वर्षीय एक छात्र को गिरफ्तार किया है, छात्र पर साइबर क्राइम का आरोप लगा है। 15 वर्षीय छात्र लोगों के वॉट्सऐप के जरिए उनको ब्लैकमेल करता था।

सिंगरैली के एएसपी ने बताया कि 10वीं में पढ़ने वाले एक 15 साल के बालक ने बहुत फ्रॉड किया है। छात्र वॉट्सऐप पर फेक आईडी बनाकर दूसरे लोगों के वॉट्सऐप को हैक कर के उनकी निजी जानकारियों से उन्हें ब्लैकमेल करता था। छात्र के पास ऐसे ऐप मिले हैं, जो भारत में बैन हैं और वह दूसरों के फोन को हैक कर के उनका डेटा रख लेते हैं। बैन ऐप को वीपीएन के जरिए दूसरे देश में अपनी लोकेशन दिखाकर ऐप को डाउनलोड किया गया है। छात्र हैकिंग के अलावा सोशल मीडिया के माध्यम से भी लोगों को लड़की बन कर फंसाता था।

​एएसपी ने आगे बताया कि छात्र ने ऐसे कई ऐप को डाउनलोड कर रखे थे, जिससे वह दूसरों के डेटा को हैक कर के अपने पास रख लेता था और उन लोगों से धमकी देकर पैसे मांगता था। छात्र ने दूसरों के नाम पर बैंक अकाउंट खुलवाएं हुए थे, जिसमें वह पीड़ितों से पैसा जमा करवाता था और एटीएम के जरिए पैसे निकालता था। 15 वर्षीय लड़का को पकड़ लिया गया है और लड़के के पास से बहुत-सी चीजें बरामद हुई हैं। मामला दर्ज़ किया गया है और उसे बाल न्यायालय में प्रस्तुत किया गया है।

देश में साइबर क्राइम अपने पैर पसारते जा रहा है और यह साइबर क्राइम अधिकांश देश के छोटे-छोटे शहरों से ही देखने को मिलते हैं। जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी एडवांस्ड होती जा रहीं है, वैसे-वैसे ऑनलाइन फ्रॉड करने वाले अपराधी हर बार नए तरीके ढूंढ ही लेते है। मगर जरूरत है, लोगों को जागरूक करने की।  देश में साइबर क्राइम अपने पैर पसारते जा रहा है और यह साइबर क्राइम अधिकांश देश के छोटे-छोटे शहरों से ही देखने को मिलते हैं। जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी एडवांस्ड होती जा रहीं है, वैसे-वैसे ऑनलाइन फ्रॉड करने वाले अपराधी हर बार नए तरीके ढूंढ ही लेते है। मगर जरूरत है, लोगों को जागरूक करने की।